पश्चिम बंगाल: ममता बनर्जी के मंत्रिमंडल से एक और मंत्री ने दिया इस्तीफा

west-bengal-another-minister-resigns-from-mamata-banerjee-s-cabinet- - Sakshi Samachar

लंबे समय से टीएमसी से थे असंतुष्ट

लगातार तीन मंत्रियों ने दिया इस्तीफा

कोलकाता: पश्चिम बंगाल (West bengal) में आसन्न विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को शुक्रवार को उस वक्त एक और झटका लगा जब राज्य के वनमंत्री राजीव बनर्जी (Rajiv Banerjee) ने राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया। बनर्जी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर सूचित किया कि वह कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा दे रहे हैं। 

उन्होंने इस्तीफा देने का कोई कारण नहीं बताया। उन्होंने पत्र में लिखा, ‘‘पश्चिम बंगाल के लोगों की सेवा करना बड़े सम्मान की बात है। यह अवसर देने के लिए मैं दिल से आभार व्यक्त करता हूं। डोमजूड़ का प्रतिनिधित्व करने वाले बनर्जी पिछले कुछ सप्ताह से सत्तारूढ़ पार्टी के एक धड़े के खिलाफ अपनी आवाज उठा रहे थे। बनर्जी ने यह भी कहा कि इस्तीफे की एक प्रति राज्यपाल जगदीप धाखड़ को ‘आवश्यक कार्रवाई' के लिए भेजी गई है।

लंबे समय से टीएमसी से थे असंतुष्ट
राजीव बनर्जी लंबे समय से पार्टी से असंतुष्ट थे। पार्टी उन्हें मनाने के लिए कई बैठक भी की थी। मंत्री पार्थ चटर्जी ने उनके साथ तीन बार बैठक की थी, लेकिन कोई समाधान नहीं निकला था। अंततः उन्होंने अपने पत्र से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने ममता बनर्जी को लिखे पत्र में कहा है कि वह बहुत ही खेद के साथ सूचित कर रहे हैं कि वह अपने मंत्री पद से इस्तीफा दे रहे हैं।

बता दें कि राजीव बनर्जी लगातार मंत्रिमंडल की बैठक में शामिल नहीं हो रहे थे। शुभेंदु अधुिकारी की तरह ही उनके समर्थन में भी हावड़ा और राज्य के विभिन्न इलाकों मेंं पोस्टर साटे जा रहे थे। उन्हें स्वच्छ नेता बताया जा रहा था. वह पार्टी में प्रशांत किशोर और अभिषेक बनर्जी से नाराज थे और उन्होंने पार्टी में इसके खिलाफ आवाज भी उठाई थी, लेकिन कोई समाधान नहीं निकला था।

लगातार तीन मंत्रियों ने दिया इस्तीफा
इसके पहले मंत्री शुभेंदु अधिकारी और खेल राज्य मंत्री लक्षमी रतन शुक्ला ने भी मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। शुभेंदु अधिकारी लगातार ममता बनर्जी और उनके भतीजे एमपी अभिषेक बनर्जी पर हमला बोल रहे हैं। शुभेंदु अधिकारी फिलहाल बीजेपी में शामिल हो गए हैं, लेकिन लक्षमी रतन शुक्ला ने अभी तक अपना पत्ता नहीं खोला है, लेकिन ममता बनर्जी के खिलाफ पार्टी में लगातार असंतोष बढ़ता जा रहा है।

Advertisement
Back to Top