कोरोना की सबसे छोटी मरीज ने दी मौत को शिकस्त, डॉक्टर बोले- कांप उठते थे हाथ

Two and Half Year Baby Wins Over Covid-19 In Jaipur - Sakshi Samachar

इटली से पैरेंट्स संग लौटी बच्ची की रिपोर्ट 18 दिन बाद निगेटिव

इलाज के वक्त डॉक्टरों के काप उठते डॉक्टरों के हाथ 

जयपुर : देश में तेजी से पांव पसार रही कोरोना महामारी का आतंक मचा हुआ है। इस बीच राजस्थान से एक अच्छी खबर सामने आई है। यहां ढाई साल की सबसे छोटी कोरोना मरीज ने इस घातक बीमारी को मात दे दी है। इस जाबाज बच्ची की कोरोना पॉजिटिव होने के 18 दिन बाद उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। अब यह फूल सी बच्ची एसएमएस हॉस्पिटल से अपने घर लौट आई है।  

माता- पिता के साथ इटली गई थी बच्ची
स्थानीय मीडिया रिपोर्ट की मानें तो यह बच्ची झुंझुनूं में रहने वाले अपने माता-पिता के साथ इटली गई थी। वहीं यह अपने माता-पिता के साथ कोरोनावायरस की चपेट में आ गई। जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल में इन तीनों का में इलाज चला। बच्ची को जब हॉस्पिटल में लाया गया तो डॉक्टरों के सामने काफी बड़ी चुनौती थी। बच्ची को कोरोना से संक्रमित देख डॉक्टरों का भी दिल दहल उठा। 

इसे भी पढें : 

Covid-19 से लड़ने में कामयाब हो सकता है राजस्थान का भीलवाड़ा मॉडल

नर्सों को  देख रोने लगती थी बच्ची

दैनिक भास्कर  से हुई बातचीत में हॉस्पिटल के डॉक्टर असरार अहमद और डॉ. प्रह्लाद धाकड़ ने  कहा-जब इस नन्ही सी जान के पास  हॉस्पिटल की नर्सें पीपीई किट पहनकर जाती तो वह डर के मारे रोने लगती थी। उस को तेज बुखार और सांस में काफी परेशानी हो रहीं थी। वह इतनी छोटी थी कि कुछ कह भी  नहीं  पाती थी। केवल दर्द की वजह से चिल्ला पड़ती थी। उसे  देख हमे भी रोना आ जाता था।बच्ची के पास में उसके माता-पिता भर्ती थे। उसका दर्द वह सुन और अहसास  कर सकते थे। हम भी कभी-कभी सोचते कि इस मासूम को गोद में उठाकर उसके थपथपा दें। लेकिन क्या करें, चाहकर भी हम ऐसा नहीं कर पाए। बस यही दर्द हमारे स्टाफ को हमेशा रहेगा।

 

Advertisement
Back to Top