आंख भी नहीं खोल पाया था तीन दिन का मासूम, हुआ कोरोना

Three Day old new Born Baby Corona Positive in Maharashtra - Sakshi Samachar

अस्पताल वालों ने वसूले 13 हजार रुपए

मुंबई : कोरोना वायरस के कहर के बीच मुंबई में एक हुदय विदारक घटना देखने को मिली है। डॉक्टरों की गलती की वजह से एक महिला और उसकी नवजात शिशु इस महामारी की चपेट में आ गई। 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक मुंबई के चेंबूर में रहने वाला एक व्यक्ति ने पिछले सप्ताह अपनी गर्भवती पत्नी को स्थानीय अस्पताल में भर्ती करवाया और महिला ने वहां एक स्वस्थ शिशु को जन्म दिया। कुछ दिनों बाद महिला और शिशु जिस वार्ड में भर्ती थे उसी वार्ड में एक रोगी को भर्ती किया, लेकिन अस्पताल वालों ने उस व्यक्ति के कोरोना संक्रमित होने की सूचना नहीं दी।

महिला के पति ने अपनी पत्नी और तीन दिन की बेटी के कोविड-19 की चपेट में आने की जानकारी देते हुए अपने परिवार की रक्षा करने की अपील करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है।

उसने लिखा, 'मुझे, मेरी पत्नी और बेटी को कोरोना टेस्ट कराने के लिए मुझसे 13 हजार रुपए वसूले हैं। यही नहीं, उसी वक्त शायद वे भी संक्रमित होने की आशंका से मैने मेरी पत्नी और शिशु को दैनिक हेल्थ चेकअप तक नहीं करवाया है। रिपोर्ट मिलने तक वहां रुकने की अपील की, लेकिन अस्पताल बंद करने का हवाला देकर हमें वहां से बाहर निकाल दिया गया। अब मेरा परिवार कस्तूरबा अस्प्ताल में भर्ती है। 

इसे भी पढ़ें : 

बनारस में मुस्लिम महिलाओं ने उतारी श्रीराम की आरती, मांगी कोरोना से बचाने की दुआ

उसने एक वीडियो को ऑनलाइ पर अपलोड कर प्रधानमंत्री से कहा है कि उसके परिवार के साथ जो अन्याय हुआ है वह किसी दूसरे परिवार के साथ न हो। साथ ही उसने उसकी पत्नी और शिशु को बेहतक चिकित्सा मुहैया कराने की अपील की है। उसने उसके परिवार को खतरे में धकेलने वाले चिकित्सा कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। इस बीच, महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या 300 के पार हो चुकी है और मृतकों की संख्या 13 तक पहुंची है। 

Advertisement
Back to Top