मुंबई के ताज होटल को उड़ाने की पाकिस्तान से मिली धमकी, हरकत में पुलिस

Taj Hotel attack threat from pakistan  - Sakshi Samachar

मुंबई के ताज होटल को उड़ाने की धमकी

पाकिस्तान से आया धमकी भरा कॉल

ताज होटल की सुरक्षा बढ़ाई गई

मुंबई: महाराष्ट्र की मुंबई पुलिस तब सकते में आ गई। जब पाकिस्तान से धमकी भरा कॉल आया कि मुंबई के ताज होटल को उड़ा दिया जाएगा। इसके बाद ताज होटल की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इससे पहले कल कराची स्टॉक एक्सचेंज में हुए आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान बुरी तरह बौखलाया हुआ है। दक्षिण मुंबई और कोस्टल पेट्रोलिंग को बढ़ाते हुए मुंबई से सटे समुद्री इलाके में भी गश्त तेज कर दी गई है। 

धमकी में शख्स ने क्या कहा?

मुंबई पुलिस की ओर से मिली आधिकारिक जानकारी के मुताबिक धमकी देने वाले शख्स ने कहा, "कराची स्टॉक एक्सचेंज में हुआ आतंकी हमला सभी ने देखा। अब ताज होटल में 26/11 जैसा हमला एक बार फिर होगा।" इस कॉल के तत्काल बाद मुंबई पुलिस के बम निरोधक दस्ते और डॉग स्क्वैयड ने कमान संभाल ली है। पूरे होटल की मुकम्मल जांच की जा रही है। गेट वे ऑफ इंडिया के इलाके में मुंबई वन की टीम तैनात है। यहां आने वाले लोगों की हरेक गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है। 

ताज होटल पर हो चुका है आतंकवादी हमला

26 नवंबर, 2008 का वो काला दिन आज भी लोगों को याद है। जब मुंबई को आतंकवादी हमले का दंश झेलना पड़ा था। आतंकवादियों ने ताज होटल में घुसकर कई लोगों की हत्या कर दी थी। यहां तक कि सात विदेशी नागरिकों को भी मौत के घाट उतार दिया गया था। होटल के हेरीटेज विंग में आग लगा दी गई थी। आखिरकार 27 नवंबर 2008 की सुबह एनएसजी कमांडोज ने आतंकवादियों को मात दी और होटल को मुक्त कराया था। करीब 60 घंटे चले इस ऑपरेशन की यादें आज भी ताजा है। 

मुंबई में हमले की याद ताजा 

मुंबई में आतंकवादी हमले में 166 से अधिक लोगों की जान गई थी जबकि 300 से अधिक लोग बुरी तरह घायल हुए थे। मरने वालों में 28 विदेशी नागरिक भी शामिल थे।

ताज होटल है भारत की शान, जानें कैसे? 

टाटा ग्रुप का मुंबई स्थित ताज होटल को भारत की शान माना जाता है। इसके पीछे कई ऐतिहासिक तथ्य हैं। खासकर होटल ताज के निर्माण की कहानी दिलचस्प है। रतन टाटा के पिता जमशेद जी टाटा एक बार ब्रिटेन घूमने गए थे। जहां उन्हें भारतीय होने के चलते एक होटल में घुसने से रोका गया। जमशेद जी टाटा ने तभी ठान लिया कि वे एक ऐसे होटल का निर्माण करेंगे जो भारत ही नहीं, दुनियाभर के मेहमानों के लिए हसरत होगी। 

इसके बाद ताज महल पैलेस होटल सन 1903 में बनवाया गया। फर्स्ट वर्ल्ड वार में इसे अस्पताल में तब्दील कर दिया गया था। इसके बाद 26/11 2008 को इस होटल को आतंकवादी हमले का सामना करना पड़ा। 

कई मायनों में खास है ताज होटल 

ताज होटल भारत की ऐतिहासिक विरासत के तौर पर है। ये पहला होटल है जिसे दिन भर चलने वाले रेस्त्रां का लाइसेंस हासिल है। साथ ही यहां का कॉफी शॉप 24सों घंटे खुला रहता है। ताज होटल में अंतरराष्ट्रीय स्तर का डिस्कोथेक भी था। जर्मन एलीवेटर्स और तुर्किश बाथ टब और अमेरिकन कंपनी के पंखे इस होटल की शान थे। 

पहला होटल जिसमें अंग्रेज थे कर्मचारी

देश शताब्दियों तक अंग्रेजों की गुलामी में रहा। वहीं देश के शान ताज होटल में अंग्रेजों को बतौर बटलर काम पर लगाया गया था ताकि उनकी औकात दिखाई जा सके। चालीस सालों तक फ्रेंच शेफ ही ताज होटल का किचन संभालते रहे। आतंकी हमले के बाद तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इसी होटल में ठहरने का फैसला किया था। ऐसा करने वाले पहले विदेशी राष्ट्राध्यक्ष बने थे।

Advertisement
Back to Top