इस दिन घटने जा रही है अनोखी घटना, नीले चांद वाले दिन ऐसा होगा मंजर

Rare Event Happening In Sky Blue Moon Will Be Seen After 76 Years - Sakshi Samachar

कहां-कहां देखा जाएगा  ब्‍लू मून

आखिर ब्‍लू मून का क्‍या है अर्थ

अगली बार 2039 में दिखाई देगा ब्‍लू मून​

हैदराबाद : खगोलीय घटनाओं के शौकीन लोगों के लिए अक्टूबर का महीना बेहद खास होने वाला है। इस घटना का नजारा इतना मोहक और रोमांचक होगा कि हर किसी की आंखें बंध जाएंगी। दरअसल, इस घटना के दौरान चांद की खूबसूरती आम दिनों की अपेक्षा कई गुना बढ़ जाएगी। विज्ञान की भाषा में इसे नीले चांद (ब्लू मून) का नाम दिया है। ब्‍लू मून का यह खूबसूरत दृश्‍य 31 अक्‍टूबर को दिखाई देगा। 

कहां-कहां देखा जाएगा  ब्‍लू मून

 माना जा रहा है कि यह अनोखा नजारा कई वर्षों के बाद देखने को मिल रहा है। विदेशों में इस दिन हैलोवीन नाम का इवेंट होगा, इसलिए वहां इस ब्‍लू मून का आकर्षण ज्‍़यादा ही बढ़ गया है। इस ब्‍लू मून को उत्‍तरी, दक्षिणी अमेरिका, भारत, एशिया एवं यूरोप के कई देशों में देखा जा सकेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आज से 30 साल पहले पूरी दुनिया में एक साथ ब्‍लू मून देखा गया था। इससे पहले भी यह देखा गया लेकिन अलग-अलग जगहों पर। इस बार यह पूरे विश्‍व में एक साथ देखा जा सकेगा। 31 अक्‍टूबर 2020 के बाद ऐसा दृश्‍य अगले 19 साल तक नहीं बनेगा। 

आखिर ब्‍लू मून का क्‍या है अर्थ

यदि आप समझ रहे हैं कि चांद पूरा नीले रंग का हो जाएगा तो ऐसा नहीं है। इस घटना को ब्‍लू मून कहा जाता है। लेकिन चांद का पूरा रंग नहीं बदलेगा। असल में, जब भी एक महीने के भीतर यानी 30 दिनों की अवधि में दो बार पूर्णिमा अर्थात् फूल मून का संयोग घटित होता है तो उसे ब्‍लू मून ही कहा जाता है। अर्थ स्‍काय ने स्‍पष्‍ट किया है कि सोशल मीडिया पर ब्‍लू मून के रूप में नीले रंग का चांद दिखाया जाता है लेकिन यह सच नहीं है। 

अगली बार 2039 में दिखाई देगा ब्‍लू मून

इसके बाद अब लोगों को वर्ष 2039 में ब्‍लू मून देखने को मिलेगा। बताया जा रहा है कि जब दूसरा वर्ल्‍ड वार हुआ था तब पूरे विश्‍व में ब्‍लू मून एक साथ देखा गया था। अब पूरे 76 साल बाद यह घटना होने जा रही है।

खास है यह घटना 

2020 में भी दो बार फूल मून होने जा रहा है। 1 अक्‍टूबर को पूर्णिमा का पहला मौका होगा। इसके बाद 31 अक्‍टूबर को भी पूर्णिमा होगी। अक्‍सर एक साल में 12 पूर्णिमा होती हैं, लेकिन इस बार 13 पूर्णिमाएं होंगी।

Advertisement
Back to Top