राष्ट्रपति ने हरसिमरत कौर का इस्तीफा मंजूर किया, नरेंद्र सिंह तोमार को सौंपा गया प्रभार

President Ramnath Kovind Accepted Harsimrat Kaur Badal Resignation from Modi Cabinet  - Sakshi Samachar

किसानों के साथ उनकी बेटी और बहन बनकर खड़ी होंगी

 शिरोमणि अकाली दल ने कभी भी यू-टर्न नहीं लिया

नई दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय कैबिनेट से हरसिमरत कौर के इस्तीफो तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया है। राष्ट्रपति ने केंद्रीय मंत्री परिषद से हरसिमरत का इस्तीफा संविधान के अनुच्छेद 75 के खंड (2) के तहत स्वीकार किया है। बताया जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह-मशविरा के बाद राष्ट्रपति ने निर्देश दिया कि कैबिनेट मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को उनके मौजूदा विभागों के अतिरिक्त  खाध्य प्रसंस्कारण उद्योग मंत्रालय का प्रभार भी सौंपा जाए।

आपको बता दें कि केंद्र की मोदी कैबिनेट से इस्तीफा की जनाकारी हरसिमरत कौर बादल ने ट्वीट कर दी थी। उन्होंने अपने ट्विटर में कहा था कि मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और कानून के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। किसानों के साथ उनकी बेटी और बहन के रूप में खड़े होने का गर्व है।
गौरतलब है कि हरसिमरत कौर की पार्टी शिरोमणी अकाली दल पहले से इस बिल को किसान विरोधी बता रही है।

इससे पहले सुखबीर बादल ने कहा, ‘‘शिरोमणि अकाली दल किसानों की पार्टी है और वह कृषि संबंधी इन विधेयकों का विरोध करती है।’’ निचले सदन में चर्चा के दौरान कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ शिरोमणि अकाली दल ने कभी भी यू-टर्न नहीं लिया।’’

बादल ने कहा, ‘‘हम राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के साथी हैं। हमने सरकार को किसानों की भावना बता दी। हमने इस विषय को हर मंच पर उठाया। हमने प्रयास किया कि किसानों की आशंकाएं दूर हों लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।’’

इसे भी पढ़ें : 

AP में बनेगा आलू और टमाटर का क्लस्टर, ऑपरेशन ग्रीन में MIEWS पोर्टल का इस्तेमाल

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने पंजाब और हरियाणा के किसानों के चौतरफा विरोध के बावजूद कृषि से जुड़े दो और बिल लोकसभा में पेश कर दिए। एनडीए में शामिल अकाली दल ऐसे तीन बिलों में से पहले बिल का विरोध किया था, जिसे लोकसभा में पारित कर दिया गया है।

पंजाब में लगातार सरकारों ने कृषि आधारभूत ढांचा तैयार करने के लिये कठिन काम किया लेकिन यह अध्यादेश उनकी 50 साल की तपस्या को बर्बाद कर देगा। अकाली दल नेता ने लोकसभा में कहा, ‘‘ मैं घोषणा करता हूं कि हरसिमरत कौर बादल सरकार से इस्तीफा देंगी।’’ 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top