कानपुर मुठभेड़ में मारे गए पुलिसकर्मियों का पूरे राजकीय सम्मान से किया गया अंतिम संस्कार

Policemen killed in Kanpur Encounter were Cremated with Honours - Sakshi Samachar

झांसी/कानपुर/प्रतापगढ़ : कानपुर के विकास दुबे "मुठभेड़ कांड" में मारे गए पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार मिश्रा, उपनिरीक्षक अनूप सिंह और सिपाही सुल्तान सिंह का पूरे राजकीय सम्मान के साथ शनिवार को अंतिम संस्कार किया गया।

पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) देवेंद्र कुमार मिश्रा का अंतिम संस्कार शनिवार दोपहर कानपुर के भैरोंघाट पर किया गया। मिश्रा का अंतिम संस्कार उनकी बेटी वैष्णवी मिश्रा ने किया। इस मौके पर एडीजी जेएन सिंह, पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश प्रभु के अलावा प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे। एसएसपी दिनेश प्रभु ने कहा कि मिश्रा का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। डीएसपी मिश्रा बिल्हौर में क्षेत्राधिकारी के पद पर तैनात थे।

                                                                                                        विकास दुबे

प्रतापगढ़ से मिली खबर के अनुसार, मुठभेड़ में मारे गए उपनिरीक्षक अनूप सिंह का अंतिम संस्कार उनके गांव सदर तहसील क्षेत्र के मानधाता बेलखरी गांव में किया गया। सिंह का पार्थिव शरीर शुक्रवार रात को उनके गांव लाया गया। उनका अंतिम संस्कार गांव में ही उनके बाग़ में बनाए गए अंत्येष्टि स्थल पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया गया। अंतिम संस्कार उनके पिता रमेश बहादुर सिंह ने किया। उनके परिवार में पत्नी, एक बेटा और एक बेटी है।

उधर, झांसी में कॉन्स्टेबल सुल्तान सिंह का उनके गृह निवास ग्राम बूड़ा भोजला में अंतिम संस्कार कर दिया गया। शुक्रवार मध्य रात्रि सुल्तान सिंह (34) का पार्थिव शरीर पुलिस लाइन, झांसी लाया गया, जहां पुलिस प्रशासन एवं पुलिस अधिकारियों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान सुल्तान के परिजन एवं बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी उपस्थित रहे। इस मौके पर आईजी सुभाष बघेल सहित जिलाधिकारी ए. वामसी, एसएसपी ङी. प्रदीप कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

जिला अधिकारी वामसी ने कहा कि सुल्तान सिंह के परिजन को शासन द्वारा घोषित आर्थिक मदद एवं परिजन को सरकारी नौकरी अविलंब दी जाएगी। साथ ही, उनके परिजन को हरसंभव मदद दी जाएगी और कहा कि शासन-प्रशासन उनके परिवार के साथ खड़ा है। बृहस्पतिवार देर रात को कानपुर में हुई एक मुठभेड़ के दौरान अपराधियों की गोलियों का शिकार हुए पुलिसकर्मियों में से एक, कॉन्स्टेबल सुल्तान सिंह झांसी के सीपरी बाजार क्षेत्र में बूढ़ा भोजला गांव के रहने वाले थे।

मुठभेड़ में मारे जाने वाले पुलिसकर्मियों में बिल्हौर के क्षेत्राधिकारी डिप्टी एसपी देवेंद्र मिश्रा (54), थानाध्यक्ष शिवराजपुर महेश कुमार यादव (42), सब इंस्पेक्टर अनूप कुमार सिंह (32), सब इंस्पेक्टर नेबू लाल (48), कॉन्स्टेबल जितेंद्र पाल (26), सुल्तान सिंह (34), बबलू कुमार (23) और राहुल कुमार (24) शामिल हैं। गौरतलब है कि बृहस्पतिवार देर रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू निवासी कुख्यात अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए उसके गांव पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था, जिसमें एक क्षेत्राधिकारी, एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए। मुठभेड़ में पांच पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक असैन्य नागरिक घायल हो गया था।
—भाषा

Advertisement
Back to Top