हाल-ए-बिहार : भूखी बहनों की मदद के लिए PMO से आया फोन तो जागी 'नीतीश सरकार'

PMO called Nitish Govt to help three hungry orphan girls - Sakshi Samachar

घरों में काम कर पेट पालती हैं लड़कियां

खाना और एक सप्ताह का सूखा राशन पहुंचाया

भागलपुर : कोरोना वायरस को रोकने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन है, जिससे लोग जहां-तहां फंसे हुए हैं। आम तौर पर लोग घरों में भी किसी को अंदर नहीं आने दे रहे हैं। ऐसे में भागलपुर जिले के खंजरपुर गांव की तीन लड़कियां भूखे अपने घर में रहने को विवश हो गईं। जब इन्हें कहीं मदद नहीं मिली तब इन्होंने एक हेल्पलाईन नंबर पर फोन किया, उसके बाद ही इन्हें खाना नसीब हो पाया।

घरों में काम कर पेट पालती हैं लड़कियां

मामला भागलपुर जिले के जगदीशपुर प्रखंड के बड़ी खंजरपुर गांव का है, जहां तीन अनाथ लड़कियां आसपास के घरों में काम कर अपना पेट पालती हैं। लॉकडाउन के कारण इनका काम छिन गया और तीनों घर में भूखे रहने लगीं। इन्हें खाना देने से जब पड़ोसियों ने भी इंकार कर दिया तब इन्होंने एक समाचार पत्र में छपे एक फोन नंबर पर फोन कर दिया। यह फोन पीएमओ में जा लगा। तीनों बहनों की कहानी सुनकर पीएमओ के अधिकारी ने पटना के आपदा प्रबंधन विभाग को फोन कर पूरे मामले की जानकारी दी।

यह भी पढ़ें : इस 'बिहारी-महिला' ने दी बहुत सारे लोगों को सीख, ऐसे करें जुगाड़ तकनीक का इस्तेमाल

खाना और एक सप्ताह का सूखा राशन पहुंचाया

इसके बाद आपदा प्रबंधन विभाग ने जगदीशपुर के अंचल पदाधिकारी (सीओ) को इस मामले में कार्रवाई करने का निर्देश दिया। इसके बाद सीओ उन लड़कियों के घर पहुंचे और उन्हें भोजन उपलब्ध करवाया। अंचल पदाधिकारी सोनू कुमार भगत ने बताया कि तीनों लड़कियों को खाना और एक सप्ताह का सूखा राशन पहुंचा दिया गया है। अंचल पदाधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि उन तीनों लड़कियों को कपड़े भी उपलब्ध कराए गए हैं तथा प्रशासन उन पर नजर रखे हुए है। सीओ का कहना है कि अगर आसपास के लोग भी पुलिस को मामले की जानकारी दे देते तो बच्चियों को इतनी परेशानी नहीं उठानी पड़ती।

यह भी पढ़ें : 'कोरोना से जंग' में जीत का डिगने न दें आत्मविश्वास, क्योंकि सेना है अब आपके साथ

Advertisement
Back to Top