मुंबई में कोरोना वॉरियर्स के साथ हो रही बदसलूकी, लोग कर रहे ऐसे बुरे बर्ताव

Nurses Of Bhatia Hospital Harassing By Appartment People In Mumbai - Sakshi Samachar

मुंबई के भाटिया हॉस्पिटल के नर्सों से हुई बदसलूकी

थाने में नर्सों ने दर्ज कराई सोसायटी वालों के खिलाफ कंप्लेन

मुंबई : पूरा देश इन दिनों कोरोना वायरस के आतंक से दहल उठा है। वही देंशभर के डॉक्टर और मेडिकल स्‍टाफ कोरोना के मरीजों की दिन रात सेवा में लगा हुआ है। इस बीच देशभर में मेडिकल स्टाफ से लगातार बदसलूकी की खबरें भी सामने आ रही हैं। ताजा मामला मुबंई से आया है। जी हां वही मुंबई जो इन दिनों कोरोना कैपिटल बन गई है। खबर है कि यहां के भाटिया हॉस्पिटल की कुछ नर्सों के साथ सोसायटी वाले बदसलूकी कर रहे हैं। नर्सों ने इस बारे में मुंबई के गांव देवी थानें में सोसायटी वालों के खिलाफ कंप्लेन भी दर्ज कराई है। ये नर्सें मुंबई के भाटिया हॉस्पिटल से काम करती हैं। हलांकि इस हॉस्पिटल से तीन कोरोना के  मरीजों के मिलने के बाद इसे सील कर दिया गया है। 

क्या है मामला ?
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नर्सों ने मुबई के गांवदेवी पुलिस स्टेशन में अपने साथ हुई बदसलूकी को लेकर शिकायत दर्ज कराई है। नर्सों ने अपनी कंप्लेन में बताया है कि वे ग्रांड ट्रंक रोड स्थित अविस्कार बिल्डिंग में रहते हैं। सोसायटी के लोग उन्हें परेशान कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जब उनकी हॉस्पिटल से आने- जाने का टाइम होता है तो सोसायटी के लोग लिफ्ट बंद कर देते है। यही नहीं  अगर नर्सों को हॉस्पिटल से आने में देर हो जाती है तो वे लोग कहते हैं कि ये तो घूमने गई थी। उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल में काफी ज्यादा काम होने की वजह से आनें में देर हो जाती है।  नर्सों ने कहा कि उनके रूम का जो कचरा फेकने को लेकर ताने मारते रहते हैं। यही नहीं सोसायटी के लोगों को इस बात पर एतराज है कि वे शॉर्ट्स पहन कर जिम क्यों कर रही हैं। सोसाइटी के लोगों द्वारा रोज- रोज इस तरह की बातों से नर्सें काफी आहत हो चुकी है। 

इसे भी पढ़ें
डॉक्टरों पर थूक रहे हैं तब्लीगी से ले जाए लोग, खाने में मांग रहे वैरायटी, प्रशासन तंग

  सोसायटी के लोगों ने नर्सों के आरोपो को किया खारिज
जब सोसायटी के लोगों से इस बात को लेकर पूछा गया तो उन्होंने कहा नर्सों द्वारा कही जा रही बात बिल्कुल गलत है। हम हमेशा सरकार के बनाए रूल्स को फॉलो करा रहे है। हम लोगों ने प्रिकासन लिया है। इस सोसायटी में 70 लोग रह रहे हैं। मगर ये लोग रूल फॉलो नहीं कर रहे हैं। हम लोगों ने आइडेंटिटी कार्ड के लिए इसलिए बोला है क्योंकि मास्क पहनने के बाद लोगों को पहचानने में थोड़ा दिक्कत होती है इसलिए इन्हें आइडेंटिटी कार्ड पहननें के लिए कहा गया है। इनके साथ कुछ नई नर्स आई है जिसकी वजह से हमने रूल्स को सख्त कर दिया जो इन्हें नागवार गुजरने लगा है। 

Advertisement
Back to Top