आज शाम होगा ईद के चांद का दीदार, धर्म गुरुओं ने दी त्योहार मनाने की कुछ ऐसी सलाह

Muslim dharm guru requests to offer eid namaz from home   - Sakshi Samachar

बस कुछ ही घंटों का इंतजार

भाई- चारे का पर्व है ईद-उल- फित्र

धर्मगुरुओं ने दी सभी को विशेष सलाह 

लखनऊ :  रमजान के पाक महीने का आज आखिरी दिन है, रोजेदारों का इंतजार खत्म हो चुका है, कुछ ही घंटे बचे रह गये हैं जब सभी एक दूसरे को ईद की बधाई देते नजर आएंगे। लेकिन लोगों में इस बात की मायूसी जरूर है कि कोरोना के चलते इस बार की ईद कुछ अलग ही होगी। लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ईद मनाई जाएगी । ऐसे में लोगों के दिल में ईद की नमाज को लेकर तमाम संशय भी है । 

एसे में कोरोना संकट के चलते शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद ने ईद में लोगों से घर पर रहकर ही नमाज पढ़ने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि इस दौरान लॉकडाउन का पालन भी किया जाना चाहिए।   मौलाना कल्बे जव्वाद ने अपने जारी एक वीडियो में कहा कि ईद के लिए हमेशा से ही नियम रहा है कि पहले गरीबों की मदद करें, फिर खुद ईद मनाएं। अच्छे-अच्छे पकवान खाने से अच्छा है कि इस महामारी के दौर में जरूरतमंद लोगों की मदद करें।

उन्होंने कहा, "ईद की नमाज लंबी होती है, इसमें 'खुतबा सूरह' पढ़ी जाती है। यह आम अवाम के लिए मुश्किल है। हम तो अपने घर के पास के इमामबाड़े पर 11 बजे नमाज पढ़ेंगे। लोग जमात के बजाय, अकेले ही नमाज पढ़ें तो ज्यादा अच्छा रहेगा। ईद की नमाज बिना जमात के, आम आदमी के लिए मुश्किल होती है, मगर वक्त का यही तकाजा है।"

इसे भी पढ़ें :

सोमवार को होगी ईद, रविवार को आखिरी रोजा : दो ऐतिहासिक मस्जिदों के शाही इमामों का ऐलान

शिया धर्मगुरु ने कहा कि खरीदारी करने निकलें तो भी लॉकडाउन की पाबंदी के साथ निकलें। इसके अलावा नमाज भी अदा करें तो भी कायदे का पालन जरूर करें।
उन्होंने कहा कि लोग घरों से लाइव प्रसारण के जरिए फुरादा की नीयत से नमाज अदा कर सकते हैं। लाइव के जरिए अकेले की नीयत से लोग नमाज अदा कर सकते हैं। मजलिसे उलमा-ए-हिंद की वेबसाइट पर लाइव दिखाई जाएगी नमाज और खुतबा दिखाया जाएगा। इससे देखकर नमाज पढ़ी जा सकती है। इसमें भी पूरा सबाब मिलेगा।
 

Advertisement
Back to Top