रेल मंत्रालय की शाम 4 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस, लॉकडाउन के बीच हो सकती है अहम घोषणाएं

Ministry of Railways to address Media in Delhi - Sakshi Samachar

रेल मंत्रालय की शाम 4 बजे होगी अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस 

श्रमिक स्पेशल ट्रेन को लेकर आ रही है कई तरह की समस्याएं

नई दिल्ली : कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के बीच रेलवे ने दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को उनके घरों तक पहुंचाने में बड़ी भूमिका निभाई है। रेल मंत्रालय आज शाम चार बजे इन्हीं मुद्दों से जुड़ी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा। सूत्रों के मुताबिक, रेलवे आने वाले दिनों की योजनाओं का जिक्र और श्रमिक स्पेशल ट्रेन के बारे में जानकारी दे सकता है।

सूत्रों के अनुसार, 31 मई तक देशव्यापी लॉकडाउन है और 1 जून से 200 ट्रेनें चलेंगी। ऐसे में आज रेल मंत्रालय कोई बड़ी घोषणा कर सकता है। रेलवे ने पहले ही श्रमिक स्पेशल के अलावा स्पेशल एसी ट्रेन चला रखी है। 

खुल गए रिजर्वेशन काउंटर

लोगों को बड़ी राहत देते हुए रेलवे ने शुक्रवार से टिकट आरक्षण काउंटर खोल दिए हैं। रेलवे बोर्ड ने गुरुवार को एक आदेश में कहा था कि 22 मई से चुनिंदा स्टेशनों पर टिकट आरक्षण काउंटर खोल दिए जाएंगे। 

रेलवे ने अब टिकट एजेटों के जरिए सामान्य सेवा केंद्रों (सीएससी) से टिकटों के आरक्षण की भी अनुमति दे दी है। आदेश में क्षेत्रीय रेलवे को हिदायत दी गई है कि वे स्थानीय जरूरतों और शर्तों के अनुसार आरक्षण काउंटर खोलने का निर्देश दें। ये बुकिंग काउंटर और सीएससी 25 मार्च को लॉकडाउन लागू होने के बाद से बंद थे। 

श्रमिक ट्रेन में पानी न होने पर उन्नाव रेलवे स्टेशन पर हंगामा 

उन्नाव रेलवे स्टेशन पर शनिवार सुबह एक श्रमिक विशेष ट्रेन के यात्रियों ने ट्रेन में पानी और खाने की समुचित व्यवस्था न मिलने पर हंगामा और हल्का पथराव किया। यात्रियों की नाराजगी देख जीआरपी और आरपीएफ पुलिस ने उन्हें समझा बुझाकर किसी तरह ट्रेन को आगे के लिए रवाना करवाया। 

रेलवे सूत्रों ने बताया कि बेंगलुरु से दरभंगा जाने वाली ट्रेन जैसे ही उन्नाव रेलवे स्टेशन पर रोकी गई तो ट्रेन में बैठे यात्रियों ने उतरकर पटरियों पर पड़े पत्थर उठाकर स्टेशन परिसर की ओर फेंके और परिसर में पड़ी कुर्सियों को पलटने लगे। यात्रियों का आरोप था कि वे चार दिन से यात्रा पर हैं लेकिन ट्रेन में न तो पानी मिला और न ही खाने की व्यवस्था है। 

यात्रियों का आरोप था कि शौचालय में भी पानी न होने से समस्या का सामना करना पड़ रहा है। कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इसके बाद यात्रियों को पानी देकर शांत कराकर ट्रेन को आगे के लिए रवाना किया गया। यात्रियों के हंगामे से स्टेशन परिसर में रखी कुर्सियां और कांच के शीशे मामूली रूप से क्षतिग्रस्त हो गये। सूचना के बाद रेलवे स्टेशन पहुंचे जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने स्टेशन मास्टर से जानकारी लेने के बाद पानी और अन्य व्यवस्थाएं कराने के निर्देश दिये।

यह भी पढ़ें : 

तेलंगाना से चलाई गईं 75 विशेष ट्रेनें, केंद्र से नहीं मिली कोई मदद : KTR

अब बिना परेशानी पहुंच सकेंगे घर, एक जून से रोजाना दौड़ेंगी 200 ट्रेनें

जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने बताया कि श्रमिक ट्रेन बेंगलुरु से बिहार के दरभंगा के लिये जा रही थी। उन्नाव में उसे रुकना नहीं था लेकिन रास्ता साफ न होने के कारण ट्रेन को यहां रोका गया। उन्होंने बताया नाराज यात्रियों को समझा बुझाकर ट्रेन को आगे रवाना कर दिया गया है। साथ ही स्टेशन मास्टर को मानक के अनुरूप सभी प्लेटफार्म पर पानी की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश दिये गए है। 

इस घटना के बाद जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक शहर में स्थिति रोडवेज बस अड्डे पहुंचे और वहां भी अधिकारियों को पानी की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। आरपीएफ के इंस्पेक्टर एसएन मिश्रा ने एक सवाल के जवाब में बताया कि हंगामा और हल्का पथराव हुआ है। घटना रेलवे स्टेशन पर हुई है अगर स्टेशन मास्टर प्राथमिकी दर्ज कराना चाहेंगे तो प्राथमिकी दर्ज की जायेगी।

Advertisement
Back to Top