कहीं मौलाना साद भी तो नहीं है कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली पुलिस को ऐसी है आशंका...!

Is Maulana Saad is also Corona Positive, Delhi Police has doubt - Sakshi Samachar

पुलिस टीम को घर पर नहीं मिला मौलाना साद

परिवार वालों ने बताया क्वारंटीन में हैं मौलाना

नई दिल्ली : तबलीगी जमात के जिस मौलाना साद की तलाश में दिल्ली पुलिस ने रात-दिन एक किया हुआ है, उसके घर से लेकर जहां-जहां भी उसके होने का अंदेशा है, सर्च ऑपरेशन जारी है, वहीं इस बीच दिल्ली पुलिस को शक हो रहा है कि मौलाना साद कहीं खुद भी कोरोना पॉजिटिव तो नहीं! दरअसल, पुलिस को ऐसी संभावना महसूस होने के पीछे कई वजहें हैं।

क्वारंटीन में है मौलाना साद

दरअसल, तबलीगी जमात के अहम लोगों में से एक मौलाना साद कांधलवी को दिल्ली पुलिस ने नोटिस जारी किया है, लेकिन जब पुलिस टीम उसके घर गई थी तो वह वहां नहीं मिला। एक ऑडियो क्लिप में उसने कहा है कि वह क्वारेंटीन में है। अब पुलिस को शक है कि वह भी कोरोना वायरस से संक्रमित है। बता दें कि पिछले दिनों दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात का एक कार्यक्रम हुआ था, जिसमें 3000 से भी अधिक लोग शामिल हुए थे। अब पता चल रहा है कि तबलीगी जमात के बहुत सारे लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसी बीच पुलिस ने जमात के अहम लोगों को नोटिस जारी करना शुरू किया है क्योंकि उन्होंने लॉकडाउन का उल्लंघन किया। मुस्लिम धर्मगुरू मौलाना साद कांधलवी को भी पुलिस ने नोटिस जारी किया है। पुलिस को शक है कि मौलाना खुद भी कोरोना वायरस से संक्रमित है क्योंकि एक मैसेज में उसने कहा है कि डॉक्टर की सलाह पर वह अभी सेल्फ क्वारेंटीन में रह रहे हैं।

मौलाना साद के घर पहुंची पुलिस की एक टीम

जब पुलिस की एक टीम मौलाना साद के घर पहुंची तो वहां उसके परिवार वाले ही थे। जब पुलिस ने कहा कि मौलाना को पुलिस की जांच में शामिल होना होगा क्योंकि उसकी वजह से हजारों लोग कोरोना वायरस के खतरे में पड़ गए हैं। इसके ऐवज में उसके परिवार ने कहा कि साद के वकील पुलिस से मिलने पहुंचेंगे। पुलिस को शक है कि खुद मौलाना साद भी कोरोना से संक्रमित है। एक ओर दिल्ली पुलिस ने मौलाना को नोटिस भेजा है, वहीं दूसरी ओर मौलाना इससे पहले दो ऑडियो मैसेज जारी कर चुका है। पहले मैसेज में उसने कहा था कि कोरोना वायरस से डरने की जरूरत नहीं है, लेकिन दूसरी ही वीडियो में वह पलट गया। यही वजह है कि पुलिस को उसके भी संक्रमित होने का अंदेशा हो रहा है।

इसे भी पढ़ें : पीएम मोदी ने देशवासियों से मांगे 9 मिनट, कोरोना से जंग पर दिया 'रोशनी मंत्र'

भड़काऊ था पहला ऑडियो 
पहली ऑडियो क्लिप को मौलाना ने दिल्ली मरकज के यूट्यूब चैनल पर जारी किया था। साद ने कहा था कि नोवल कोरोना वायरस किसी भी मुस्लिम को नुकसान नहीं पहुंचा सकेगा इसलिए इससे डरने की जरूरत नहीं है। उसने यह भी कहा था कि अगर कोई इस वायरस से संक्रमित हो भी जाता है तो मरने के लिए सबसे अच्छी जगह मस्जिद ही है।

दूसरे ऑडियो में पलटा साद
हालांकि, कुछ ही घंटों बाद साद ने एक दूसरा वीडियो जारी किया जिसमें उसने कहा कि तबलीगी जमात के सभी लोग सरकार की गाइडलाइन्स का पालन करें। प्रशासन के साथ को-ऑपरेट करें। एक जगह जमा होने से बचें। उसने यह भी कहा कि डॉक्टर की सलाह पर उसने खुद को भी क्वारेंटीन में रखा हुआ है। उसने कहा कि आप जहां भी हों, वहीं रहें और खुद को क्वारेंटीन कर लें। यह इस्लाम या शरीयत के खिलाफ नहीं है। दिल्ली पुलिस को तबलीगी जमात के लोगों के इस कार्यक्रम के बारे में 21 मार्च को पता चला था। यानी देश भर में हुए लॉकडाउन से सिर्फ 2 दिन पहले। दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद कांधलवी और 6 अन्य लोगों के खिलाफ इस मामले में एफआईआर भी दर्ज की है। दिल्ली पुलिस के अनुसार जब वह 26 से 30 मार्च के बीच मरकज पहुंचे तो पाया कि वहां पर करीब 1300 लोग जमा थे। किसी के भी चेहरे पर मास्क नहीं था ना ही वे लोग सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर रहे थे। क्राइम ब्रांच ने 50 टीमें बनाईं, जिसके बाद 20 अस्पतालों में जमात में हिस्सा लेने वालों को भर्ती किया गया। उनके सही होने के बाद उनसे पूछताछ की जाएगी।

इसे भी पढ़ें : दिल्ली के अस्पतालों में काम करने वाले डॉक्टर्स और नर्सेस के साथ ये क्या हो रहा है!

Advertisement
Back to Top