पैदल ही घर को निकला था ये मजदूर, 200 KM बाद आखिरी कॉल पर बोला- लेने आ सकते हो, तो आ जाओ

Lock Down: Last Call Migrating Labour Died Due To Heart Attack After 200 km walk - Sakshi Samachar

जहां दम तोड़ा वहां से 120 किमी. दूर था गांव

दिल्ली के रेस्टोरेंट में काम करते थे रणबीर

परिवार में पत्नी और 3 बच्चे छोड़ गए रणबीर

नई दिल्ली : कोरोना वायरस  ने पूरे देशभर में आतंक मचा रखा है। इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए  पूरे 22 मार्च से ही भारत में 21 दिन के लॉकडाउन का एलान किया गया है।  लॉकडाउन की वजह से ना सिर्फ़ बाज़ार, सड़कें ही नहीं रोकी हैं, बल्कि लोगों की ज़िंदगियों को भी रोक दिया है। लोगों की तकलीफों का आलम यह है कि उनके दर्द अब आह भी नहीं भर पा रहे। ऐसा ही कुछ 38 साल के रणबीर सिंह के साथ हुआ, जिसे शब्दों में पूरी तरह बयां कर पाना काफी कठिन है। बस आप इन आवाजों में उस दर्द, उन आंसुओं को महसूस कर सकते हैं, जिससे रणबीर सिंह गुजरे होंगे और उनका परिवार अब इसके साथ जीएगा।

दिल्ली से 200 किमी चल आगरा पहुंचे रणबीर
 रणबीर सिंह दिल्ली से मध्यप्रदेश स्थित अपने घर पहुंचने के लिए बेताब थे। लॉकडाउन था, कोई साधन नहीं।  ऐसे में उन्होंने पैदल ही जाने का तय किया। दिल्ली से 200 किलोमीटर तक चलकर आगरा पहुंच गए। अब सिर्फ 120 किलोमीटर का सफ़र और तय करना था, लेकिन कदमों की चाल के आगे दिल की रफ़्तार धीमी पड़ गई। आगरा में उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई। मंज़िल पर पहुंचने की कोशिश में जिंदगी का सफ़र ख़त्म हो गया।

इसे भी पढ़ें : 
200 किलोमीटर चलकर आगरा पहुंचे 39 वर्षीय व्यक्ति की मौत, लॉकडाउन में घर जाने की थी कोशिश

'सीने में बहुत दर्द है, लेने आ सकते हो तो आ जाओ'
42 सेकेण्ड की एक ऑडियो है, जिसमें चीख़ने-चिल्लाने की आवाज़ आ रही है। इस ऑडियो में रणबीर में कहते हुए सुनाई दे रहे है कि कोई बीमारी लगी है कोरोना। सब कुछ बंद हो गया है। ना बस है और ना ही ट्रेन। पैदल ही आ रहा हूं। रणबीर ने आखिरी बार अपनी बेटी से फोन पर कुछ यही कहा था। उनका परिवार उनकी राह देखता रहा और थके हारे रणबीर आगरा के पास रास्ते में अपना दम तोड़ दिया। आखिरी बार शनिवार शाम 5 बजे अपने परिवार को फोन पर उन्होंने कहा था सीने में बहुत दर्द है, लेने आ सकते हो तो आ जाओ और कॉल कट गई। ये शायद रणबीर सिंह के उनके परिवार के लिए आखि़री शब्द थे।

परिवार में पसरा मातम
रविवार को पति की मौत की ख़बर सुनने के बाद ममता का रो-रो कर बुरा हाल है। मगर सामने तीन बच्चों की ज़िम्मेदारी है, जो उससे पूरी तरह दर्द भी बयां नहीं करने दे रही।
ममता ने बताया कि उसकी रणबीर से बात हुई थी। उसने पूछा था कि कब लौटोगे? मगर रणबीर ने कहा कि वो नहीं आ सकते। 

कौन थे रणबीर 
रणबीर तुगलकाबाद स्थित एक रेस्तरां में डिलिवरी ब्वॉय का काम करते थे। अपने खाने के लिए वो रेस्तरां पर ही निर्भर थे। कालकाजी में डीडीए कॉलोनी के बगल में उनकी झोपड़ी भी थी। जांच अधिकारियों ने रणबीर की मौत का कारण दिल का दौरा पड़ना बताया है।
 

Advertisement
Back to Top