74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह के आयोजन में PM मोदी को भी खल गई 'उनकी' गैरमौजूदगी...

Know PM Modi was missing whom during the Independence Day 2020 ceremony - Sakshi Samachar

बच्चे मन के सच्चे, हैं मोदी के आंख के तारे

हमेशा से ही बच्चे मोदी के समारोह का रहे हैं अहम हिस्सा

रंग बिरंगे परिधानों में बैठे बच्चे  ध्यान आकर्षित करते रहे हैं

नई दिल्ली : इस बात की कल्पना से ही मन रोमांचित हो उठता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमारा उनके करीब मौजूद न होना मिस किया। वाकई, आज कुछ ऐसे लोग भी हैं, जिन्हें यह गौरव प्राप्त हो रहा है कि उनकी गैरमौजूदगी एक मजबूत देश के सबसे मजबूत माने जाने वाले प्रधानमंत्री को खल रही है। जानना चाहेंगे... कौन हैं वे?

बच्चे मन के सच्चे, हैं मोदी के आंख के तारे

जी हां, यह खुशकिस्मती हमारे बच्चों की है। उन बच्चों की, जो हर साल स्वतंत्रता दिवस का हिस्सा बनकर समारोह के दौरान पीएम के सबसे करीब होने का गौरव पाते रहे हैं। पीएम ने लाल किले के प्राचीर से उनकी अनुपस्थिति जगजाहिर की तो आप समझ सकते हैं कि उन्होंने किस कदर उनकी कमी महसूस की होगी!

हमेशा से ही बच्चे मोदी के समारोह का रहे हैं अहम हिस्सा

बता दें कि नरेंद्र मोदी को करीब से जानने वालों को मालूम होगा कि मोदी जब गुजरात में मुख्यमंत्री थे, तब भी उनके हर समारोह में स्कूली और दिव्यांग बच्चों को खास तौर से इन्वाइट किया जाता था। यही नहीं, मोदी हमेशा से ही समारोह के बाद इन बच्चों के करीब पहुंचकर इनसे हाथ मिलाते और तस्वीरें खिंचवाते रहे हैं। ऐसे में उनकी कमी यकीनन आज उन्हें बेहद खल रही होगी।

रंग बिरंगे परिधानों में बैठे बच्चे  ध्यान आकर्षित करते रहे हैं

हर साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले के प्रांगण में रंग बिरंगे परिधानों में बैठे हुए बच्चे भीड़ का ध्यान आकर्षित करते रहे हैं लेकिन शनिवार को आजादी की 74वीं वर्षगांठ पर उनकी अनुपस्थिति हर किसी को खल गई। गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे को देखते हुए इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह में बच्चों को नहीं बुलाया गया था।

कोरोना वायरस महामारी ने हम सभी को रोक रखा है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा, “आज हमारे बच्चे यहां हमारे साथ नहीं हैं। कोरोना वायरस महामारी ने हम सभी को रोक रखा है।” स्वतंत्रता दिवस समारोह में बच्चे ताली बजाकर और शोर मचाकर खुशी प्रकट करते थे, लेकिन इस बार कोविड-19 के मद्देनजर समारोह सादगी भरा और शांत रहा।

एनसीसी कैडेट के रूप में स्कूल के छात्रों ने समारोह में भाग लिया

हालांकि एनसीसी कैडेट के रूप में स्कूल के कुछ छात्रों ने समारोह में भाग लिया, लेकिन उन्हें भी बच्चों की कमी महसूस हुई। बच्चों के बीच लोकप्रिय मोदी प्रत्येक स्वतंत्रता दिवस पर प्रोटोकॉल तोड़कर उनसे हाथ मिलाने जाते रहे हैं। प्रतिवर्ष स्कूली बच्चे और युवा भव्य स्वतंत्रता दिवस समारोह की शोभा बढ़ाते रहे हैं, लेकिन इस साल महामारी के डर से आयोजन स्थल पर उनकी ऊर्जा देखने को नहीं मिली, जो यहां मौजूद हर शख्स को खूब खली।

Advertisement
Back to Top