28 साल तक चलने वाले बाबरी विध्वंस मामले का आखिरकार आ गया फैसला, आइए जानें फैसले की दस मुख्य बातें

Know 10 main points of Babri Masjid Demolition Case Final Verdict - Sakshi Samachar

साल 1992। तारीख 6 दिसंबर। जगह अयोध्या। बाबरी मस्जिद ढांचा विध्वंस केस में बुधवार को सीबीआई कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए सभी 32 आरोपितों को बरी कर दिया है।

कोर्ट ने कहा कि सीबीआई कोई ऐसा सुबूत पेश नहीं कर पाई है जिससे कि इन आरोपियों का अपराध साबित हो सके। यह भी कहा जा सकता है कि बाबरी मस्जिद विध्वंस के पीछे कोई साजिश नहीं रची गई। लोगों का आक्रोश वहां स्वत: स्फूर्त था। इस मामले के मुख्य आरोपितों में एक स्व. अशोक सिंहल को कोर्ट ने यह कहते हुए क्लीन चिट दे दी कि वह तो खुद कारसेवकों को विध्वंस से रोक रहे थे, क्योंकि वहां भगवान की मूर्तियां रखी हुई थीं।

इए, 28 साल तक चले इस केस के फैसले की दस प्रमुख बातों पर डालें एक नजर...

1. अयोध्या में बा​बरी मस्जिद ढांचा विध्वंस केस का फैसला सुनाने के लिए सीबीआई के विशेष जज एसके यादव दोपहर 12 बजकर 10 मिनट में कोर्ट पहुंचे। उस समय कोर्ट में 26 आरोपित मौजूद थे, जबकि आडवाणी, डॉ. जोशी, उमा भारती, नृत्यगोपाल समेत छह आरोपी वीडियो से कोर्ट में जुड़े हुए थे। महज तीन मिनट में ही जज ने अपना फैसला सुनाते हुए आरोपितों को बरी कर दिया।

2. सीबीआई के विशेष जज एसके यादव ने कहा कि अखबारों में छपी खबरों को प्रामाणिक सुबूत नहीं माना जा सकता क्योंकि उनके मूल नहीं पेश किए गए। फोटोज की निगेटिव नहीं प्रस्तुत किए गए और न ही वीडियो फुटेज साफ थे। कैसेट्स को भी सील नहीं किया गया था। अभियोजन ने जो दलील दी, उनमें मेरिट नहीं थी।

3. कोर्ट ने कहा कि सीबीआई कोई निश्चयात्मक सुबूत नहीं पेश कर सकी। विध्वंस के पीछे कोई साजिश नहीं रची गई और लोगों का आक्रोश स्वत: स्फूर्त था।

4. सीबीआई के विशेष जज एसके यादव ने फैसला सुनाते हुए कहा कि विध्वंस के लिए कोई षड्यंत्र नहीं किया गया। घटना पूर्व नियेाजित नहीं थी। एलआईयू की रिपोर्ट थी कि छह दिसंबर 1992 को अनहोनी की आशंका है किंतु इसकी जांच नही कराई गई।

5. मुख्य आरोपितों में एक स्व. अशोक सिंहल को कोर्ट ने यह कहते हुए क्लीन चिट दे दी कि वह तो खुद कारसेवकों को विध्वंस से रोक रहे थे, क्योंकि वहां भगवान की मूर्तियां रखी हुई थीं।

6. सीबीआई के विशेष जज एसके यादव ने फैसला सुनाते हुए कहा कि अभियोजन पक्ष की तरफ से जो साक्ष्य पेश किए वो दोषपूर्ण थे। जिन लोगों ने ढांचा तोड़ा, उनमें और आरोपियों के बीच किसी तरह का सीधा संबंध स्थापित नहीं हो सका। इस आधार पर कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया।

7. सीबीआई के विशेष जज एसके यादव ने कहा कि अयोध्या में दोपहर 12 बजे विवादित ढांचा के पीछे से पथराव शुरू हुआ। उस वक्त अशोक सिंघल ढांचे को सुरक्षित रखना चाहते थे, क्योंकि ढांचे में मूर्तियां थीं। वहां मौजूद सभी आरोपी ने उग्र भीड़ को रोकने की कोशिश की।

8. सीबीआई के विशेष जज एसके यादव ने कहा कि सीबीआई ने साध्वी ऋतंभरा व कई अन्य अभियुक्तों के भाषण के टेप को सील नहीं किया। जज ने कहा कि जो कारसेवक वहां मौजूद थे, वे सभी उन्मादी नहीं थे। बल्कि कुछ असामाजिक तत्वों ने भीड़ को उकसाया था।

9. विशेष जज ने कहा कि तस्वीरों से किसी को आरोपित नहीं ठहराया जा सकता है। अयोध्या विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था। घटना के प्रबल साक्ष्य नही हैं। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद गड़े मुर्दे नहीं उखाड़े जाने चाहिए।

10. विशेष जज ने अखबारों को साक्ष्य नहीं माना और कहा कि वीडियो कैसेट के सीन भी स्पष्ट नहीं हैं। कैसेट्स को सील नहीं किया गया, फोटोज की निगेटिव नहीं पेश की गई। साध्वी ऋतंभरा और कई अन्य अभियुक्तों के भाषण के टेप को सील नहीं किया गया।

Advertisement
Back to Top