स्टार प्रचारक का दर्जा हटाए जाने पर बोले कमलनाथ- 'मैं जाऊंगा प्रचार करने, मुझे कोई नहीं रोक सकता'

Kamal Nath Reaction after Election Commission removed him from Star Compaigners list - Sakshi Samachar

भोपाल : चुनाव आयोग द्वारा कांग्रेस पार्टी के स्टार प्रचारक के दर्जे से हटाए जाने से बौखलाए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने अपना आक्रोश व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि मैं प्रचार करने जाऊंगा। मुझे कोई नहीं रोक सकता। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में पार्टी की जीत की जिम्मेदारी कमलनाथ पर हैं और वह अपने पार्टी उम्मीदवार के लिए जोर-शोर से चुनाव प्रचार कर रहे हैं। इसी क्रम में चुनावी जनसभा में दिए अपने बयानों के कारण कमलनाथ विवादों में भी आ चुके हैं।  

इससे पहले चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के उपचुनाव के लिए प्रचार के दौरान आदर्श आचार संहिता का बार-बार उल्लंघन को लेकर कांग्रेस नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का ‘स्टार प्रचारक' का दर्जा शुक्रवार को रद्द कर दिया।

आयोग ने अपने आदेश में कहा, ‘‘...आदर्श आचार संहिता के बार-बार उल्लंघन और उन्हें (कमलनाथ को) जारी की गई सलाह की पूरी तरह से अवहेलना को लेकर आयोग मध्य प्रदेश विधानसभा के वर्तमान उपचुनावों के लिए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का, राजनीतिक दल के नेता (स्टार प्रचारक) का दर्जा तत्काल प्रभाव से समाप्त करता है।'' आयोग ने कहा कि कमलनाथ को स्टार प्रचारक के रूप में प्राधिकारियों द्वारा कोई अनुमति नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, अब से यदि कमलनाथ द्वारा कोई चुनाव प्रचार किया जाता है तो यात्रा, ठहरने और दौरे से संबंधित पूरा खर्च उस उम्मीदवार द्वारा वहन किया जाएगा जिसके निर्वाचन क्षेत्र में वह चुनाव प्रचार करेंगे।'' स्टार प्रचारक का खर्च राजनीतिक पार्टी उठाती है जबकि अन्य प्रचारकों का खर्च उम्मीदवार वहन करते हैं। चुनाव आयोग ने कहा कि उसने इस मामले पर गंभीरता से विचार किया है और "अप्रसन्नता के साथ महसूस किया कि एक राजनीतिक दल का नेता होने के बावजूद कमलनाथ बार-बार आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों तथा नैतिक और गरिमामय व्यवहार का उल्लंघन कर रहे हैं।''

इसे भी पढ़ें : 

मप्र उपचुनाव : कमलनाथ और दिग्विजय पर सिंधिया का हमला, बताया 'सबसे बड़ा गद्दार'

आयोग ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ उनकी टिप्पणी का उल्लेख किया। उन्होंने एक हालिया चुनावी कार्यक्रम में राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ "माफिया और मिलावट खोर' शब्दों का इस्तेमाल किया था। आयोग ने पिछले हफ्ते कमलनाथ को चुनाव प्रचार में "आयटम" जैसे शब्दों का उपयोग नहीं करने को कहा था। उन्होंने एक रैली में मंत्री और भाजपा उम्मीदवार इमरती देवी पर निशाना साधने के लिए इस शब्द का इस्तेमाल किया था। मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के लिए तीन नवंबर को उपचुनाव होने हैं। 
 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top