राज्यसभा के लिए सिंधिया ने भरा नामांकन, 3 में से 2 सीटों पर भाजपा की हो सकती है जीत

Jyotiraditya Scindia Filed Nomination For Rajya Sabha - Sakshi Samachar

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया राज्यसभा के लिए नामांकन

एमपी में बीजेपी के खाते में आ सकती है 2 सीट 

 भोपाल : पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 26 मार्च को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को यहां विधानसभा सचिवालय में भाजपा उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। सिंधिया प्रदेश भाजपा कार्यालय से रवाना होकर लगभग दो बजे विधानसभा सचिवालय पहुंचे और निर्वाचन अधिकारी और विधानसभा के प्रमुख सचिव ए.पी सिंह को अपना नामांकन पत्र सौंपा।

इस दौरान सिंधिया के साथ प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा, निर्वतमान राज्यसभा सदस्य प्रभात झा और प्रदेश भाजपा के अन्य वरिष्ठ नेता उपस्थित थे। भाजपा कार्यालय पहुंचने से पहले सिंधिया ने पार्टी के अन्य नेताओं के साथ प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा के आवास पर दोपहर का भोजन किया था। उन्होंने आज सुबह अपनी बुआ और भाजपा विधायक यशोधरा राजे सिंधिया से भी मुलाकात की थी। शिवराज सिंह चौहान द्वारा अपने निवास पर गुरुवार रात सिंधिया के सम्मान में रात्रिभोज दिया गया था।

बुधवार को घोषित किया गया सिंधिया को राज्यसभा का उम्मीदवार

इससे पहले बुधवार को भाजपा में शामिल होने के तुरंत बाद भाजपा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्यप्रदेश से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया था। मध्यप्रदेश की तीन राज्यसभा सीटों के लिए 26 मार्च को मतदान होना है। वर्तमान में मध्यप्रदेश से कांग्रेस के दिग्विजय सिंह और भाजपा के प्रभात झा और सत्यनारायण जटिया राज्यसभा सांसद हैं। इन तीनों सांसदों का कार्यकाल अगले माह समाप्त हो रहा है।

मध्य प्रदेश में भाजपा 2 और कांग्रेस 1 राज्यसभा सीट जीत सकती है

राज्य में अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कितने विधायक किसके साथ हैं। अगर कांग्रेस के 22 विधायकों का इस्तीफा मंजूर कर लिया जाता है, तब कुल विधायकों की संख्या घटकर 206 हो जाएगी। ऐसी स्थिति में राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए 52 विधायकों को वोट चाहिए। इस्तीफे के बाद कांग्रेस के पास 99 और भाजपा के पास 107 विधायक बचेंगे। ऐसे में भाजपा 2 और कांग्रेस 1 सीट पर जीत हासिल कर लेगी। अगर 22 विधायकों के इस्तीफे मंजूर नहीं होते हैं, तो ऐसी स्थिति में कांग्रेस व्हिप जारी करेगी। ऐसी स्थित में अगर कांग्रेस के 22 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की तो स्पीकर उन्हें अयोग्य घोषित कर सकता है। ऐसी स्थिति में भी भाजपा को ही फायदा होगा और वह 2 सीट पर जीत जाएगी।

कांग्रेस ने प्रदेश से राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह को पुन: उम्मीदवार बनाया है जबकि भाजपा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपना प्रत्याशी बनाया है। सिंधिया ने मंगलवार को कांग्रेस छोड़ दी थी और उसके अगले दिन बुधवार को भाजपा में शामिल हो गए थे।

Advertisement
Back to Top