आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 विशेष ट्रेनें, यात्रा से पहले जान लें रेलवे के ये नए नियम

Indian Railways Start 200 Passenger Train Services from Today - Sakshi Samachar

श्रमिक स्पेशल के अलावा चलेंगी ये ट्रेन

26 लाख यात्रियों ने करवाई टिकट बुक

यात्रियों को 90 मिनट पहले स्टेशन पर पहुंचना होगा

नई दिल्ली : कोरोना संकट के बीच आज से 200 विशेष ट्रेनें पटरी पर दौड़ेंगी। लॉकडाउन 5.0 के तहत दी गई छूट में लोग श्रमिक स्पेशल ट्रेन के अलावा सोमवार से 200 विशेष ट्रेनों से अपने घर जा सकेंगे। पहले दिन 1.45 लाख से अधिक यात्री यात्रा करेंगे। रेलवे ने कहा कि लगभग 26 लाख यात्रियों ने एक जून से 30 जून तक विशेष ट्रेनों से यात्रा के लिए टिकट की बुकिंग कराई है। 

सोमवार से शुरू हो रही ये सेवाएं 12 मई से संचालित हो रही श्रमिक विशेष ट्रेनों और 30 वातानुकूलित ट्रेनों के अलावा हैं। रेलवे ने कहा कि यात्रियों को ट्रेन छूटने से कम से कम 90 मिनट पहले स्टेशन पर पहुंचना होगा और जिन लोगों के पास कंफर्म या आरएसी टिकट होंगे, उन्हें ही स्टेशन के भीतर जाने और ट्रेनों में सवार होने की अनुमति दी जायेगी। 

केन्द्रीय गृह मंत्रालय (एमएचए) के दिशा-निर्देशों के अनुसार यात्रियों को अनिवार्य रूप से जांच करानी होगी, केवल बिना लक्षण वाले यात्रियों को ही ट्रेनों में प्रवेश करने या सवार होने की अनुमति दी जायेगी। 

ये रेलगाड़ियां मौजूदा समय में प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह प्रदेश पहुंचाने के लिए चलाई जा रही श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों एवं राजधानी ट्रेन के रूट पर दिल्ली से 15 शहरों के लिए चलाई जा रही विशेष रेलगाड़ियों के अलावा है। इन रेलगाड़ियों में सफर करने के लिए सभी श्रेणी के यात्रियों को ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग कराने की अनुमति है। 

इससे पहले रेलवे ने 30 जून तक के लिए सभी नियमित यात्री रेलगाड़ियों को रद्द कर दिया था। रेलवे ने कहा कि इन 200 रेलगाड़ियों को चलाने से उन प्रवासियों को भी मदद मिलेगी जो किसी कारण श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों की सुविधा नहीं ले पा रहे हैं। 

यह भी पढ़ें :

अनलॉक-1 में घर से निकलने से पहले रखें इन बातों का ध्यान, पढ़ें पूरी गाइडलाइंस

Lockdown 5 : आज से देश हुआ 'अनलॉक', जानिए आपके राज्य में सरकार ने क्या दी रियायत

रेलवे ने कहा, ‘‘इस बात की कोशिश की जाएगी कि वे (प्रवासी) जहां पर हैं वहीं पर नजदीक के रेलवे स्टेशन से रेलगाड़ी में सवार हो सकें। रेलवे ने राज्य सरकारों से भी उन प्रवासी कामगारों की पहचान करने और उनकी स्थिति का पता लगाने को कहा है जो पैदल ही अपने गृह प्रदेशों के लिए निकल पड़े हैं ताकि नजदीकी जिला मुख्यालय में उनका पंजीकरण कराकर नजदीकी रेलवे स्टेशन से रेलगाड़ियों के जरिये उन्हें आगे के सफर पर भेजा जा सके। 

Advertisement
Back to Top