चीन पर बढ़ा भारत का दबाव, सेना ने लद्दाख के पूर्वी क्षेत्र की 6 चोटियों पर किया कब्जा

Indian Army has occupied six new major heights on LAC with China - Sakshi Samachar

नई दिल्ली :  पिछले तीन हफ्तों में, पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चीनी सेना के साथ चल रहे संघर्ष के दौरान वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर छह नई  अहम चोटियों पर कब्जा कर लिया है। एक आधिकारिक सूत्र ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि भारतीय सेना ने 29 अगस्त से सितंबर के दूसरे सप्ताह के बीच छह नई ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया है। हमारी सैनिकों द्वारा कब्जा किए जा रहे नए पहाड़ी इलाकों में पहाड़ी, गुरुंग हिल, रेसेन ला, रेजांग ला, मोखपारी और चीनी पदों पर प्रमुख ऊंचाई शामिल हैं जो कि फिंगर 4  के पास में ही हैं।

उन्होंने कहा कि ये पहाड़ी विशेषताएं सुप्त पड़ी हुई थीं और इससे पहले की चीन कि लिबरेशन आर्मी इन चोटियों पर पहुंच पाती उससे पहले ही भारतीय सेना के जवानों इन चोटियों को अपने कब्जे में ले लिया है। अब हमारी सेना उन क्षेत्रों में प्रतिकूल परिस्थितियों में बढ़त बनाए हुए है। सूत्रों ने कहा कि चीनी सेना के उकसावे ने हाइट्स पर कब्जे के प्रयासों के चलते पैंगोंग के उत्तरी तट से झील के दक्षिणी किनारे तक कम से कम तीन बार पर हवा में गोलियां चलाईं। 

3000 हजार अतिरिक्त टुकड़ियों को किया तैनात
सूत्रों ने स्पष्ट किया कि ब्लैक टॉप और हेलमेट टॉप हिल फीचर्स एलएसी पर चीन की तरफ हैं। जबकि भारतीय पक्ष द्वारा कब्जे वाली ऊंचाई वाले इलाके एलएसी पर भारतीय इलाके में हैं। भारतीय सेना द्वारा ऊंचाइयों पर कब्जे के बाद, चीनी सेना ने अपनी ज्वाइंट हथियारों की ब्रिगेड की लगभग 3,000 एक्स्ट्रा टुकड़ियों को तैनात किया है, जिसमें रेज़ांग ला और रेचेन ला हाइट्स के पास अपनी पैदल सेना और बख़्तरबंद सैनिक शामिल हैं।

डोभाल बिपिन रावत, और सेना प्रमुख की निगरानी में ऑपरेशन 
चीनी सेना के मोल्दो गैरीसन "भी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा पिछले कुछ हफ्तों में अतिरिक्त सैनिकों के साथ पूरी तरह से सक्रिय हो गए हैं। चीनी आक्रमण के बाद, भारतीय सुरक्षा बल निकट समन्वय में काम कर रहे हैं और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, रक्षा स्टाफ के प्रमुख जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने की निगरानी में ऑपरेशन किए जा रहे हैं।

चुशुल ईलाके तक कई घर्षण बिंदु हैं

भारत और चीन पंगिंग त्सो झील के पास बड़े संघर्ष में लगे हुए हैं और सब सेक्टर नॉर्थ से लेकर लद्दाख के चुशुल इलाके तक कई अन्य घर्षण बिंदु हैं। भारत ने पीएलए द्वारा गालवान घाटी में भारतीय सैनिकों को धोखा देने के बाद और इस साल जून में वहां 20 भारतीय सैनिकों के मारे जाने के बाद चीन के साथ संघर्ष के दौरान हथियारों का उपयोग नहीं करने के सगाई के नियमों को भी बदल दिया।

Advertisement
Back to Top