कोरोना होने के बावजूद नहीं दिखते लक्षण, असिम्प्टोमैटिक रोगियों से ज्यादा खतरा

 India Asymptomatic-patients not visible in corona become more dangerous  - Sakshi Samachar

असिम्प्टोमैटिक रोगियों से ज्यादा खतरा

ऐसे मरीजों में नहीं दिखते हैं लक्षण

अपने आस-पास ऐसे मरीजों से रहें सावधान

नई दिल्ली : कोरोना का संक्रमण दुनिया भर में बढ़ रहा है। लगातार दुनिया के देशों में मौतों के आंकड़े बढ़ रहे है। वहीं ऐसे लोगों की संख्या भी ज्यादा सामने आ रही है जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे हैं। चाइना से आई रिपोर्ट में खुलासा हुआ  है कि वहां 30 प्रतिशत लोगों में कोरोना के लक्षण नहीं दिखे। ऐसे लोगों को असिम्प्टोमैटिक नाम दिया गया है। ऐसे मे हमारे सामने एक चुनौती ये भी है कि जिनमें कोई लक्षण नहीं दिख रहे है उनसे कैसे बचाव किया जाये

WHO की स्टडी में भी ये रिपोर्ट दी गयी है कि तीन प्रतिशत लोगों में कोरोना के लक्षण नहीं दिखते हैं। ऐसे लोगों में लक्षण सामने आने में दो से तीन सप्ताह भी लग सकते हैं। जबकि नॉर्मल मामलों में दो से तीन दिन में ही कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखते लगते हैं  

अमेरिकी संस्था CDCP सेंटर फॉर डिजीज एंड प्रिवेंशन के अनुसार अमेरिका में इस तरह के 20 फीसदी मामले आएं है जिनमे बीमारी के लक्षण नहीं दिखे।वहीं एक अन्य संस्था ने जानकारी दी है कि जर्मनी स्पेन और इटली में ऐसे 18,20,27 प्रतिशत मामले सामने आए हैं। वहीं जापान में ये आंकड़ा कुछ ज्यादा ही है वहां ऐसे 28 फीसदी मामले सामने आए हैं । वहीं भारत में भी कई केस सामने आए हैं लेकिन इनका आधिकारिक आंकड़ा नहीं तैयार किया गया है।  

इसे भी पढ़ें

फोन पे का 'आई फॉर इंडिया' अभियान- कोरोना से fight करने में करें मदद

जानकारों के मुताबिक जिनकी प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा होती है उन लोगों  में लक्षण देरी से सामने आते हैं । ऐसे लोगों से कोरोना फैलने का ज्यादा खतरा है। गौरतलब है कि तबलीगी जमात के लोग पूरे देश के कई प्रांतों में कोरोना बम बनकर घूम रहे हैं। ऐसे में भारत में लोगों को सावधान हो जाने की जरूरत है। कहीं ऐसे लोगाों से कोरोना ना फैल जाए। लोगों के सामने एक ही रास्ता है कि सोशल डिस्टेंसिंग बना कर रखें और अपनी और अन्य लोगों की जिंदगी को बचाने में मदद करें। 

Advertisement
Back to Top