बिहार चुनाव : सीएम कुर्सी को लेकर जेडीयू और भाजपा में होगा टकराव, जानें क्या कहते हैं मतदाता

ians abp c voter opinion poll on bihar election - Sakshi Samachar

आईएएनएस एबीपी-सीवोटर ने शनिवार को जारी किया सर्वे

सर्वेक्षण में 30,678 उत्तरदाताओं को  किया गया शामिल

1 से 23 अक्टूबर के बीच आयोजित कराया गया सर्वेक्षण

नई दिल्ली : बिहार विधासभा चुनाव पर आईएएनएस एबीपी-सीवोटर ने एक सर्वे किया है। शनिवार को जारी किए गए आईएएनएस एबीपी-सीवोटर ओपीनियन पोल के अनुसार, बिहार के 60 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं का मानना है कि यदि चुनाव में भाजपा अधिक सीटें जीतती है तो परिणाम सामने आने के बाद भाजपा और जदयू के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान हो सकती है।

ओपिनियन पोल के अनुसार, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जेडी-यू से आगे भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है। एबीपी-सीवोटर द्वारा जारी बिहार राज्य चुनाव पर ओपीनियन पोल के आंकड़ों के अनुसार, नीतीश कुमार की नेतृत्व वाली जेडी-यू और भाजपा गठबंधित एनडीए को विधानसभा चुनाव में 135-159 सीटें मिलेंगी, जो स्पष्ट बहुमत है और भाजपा 73-81 सीटों के साथ विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी होगी, जबकि जेडीयू को 59-87 के बीच सीटें मिलेंगी।

इसे भी पढ़ें :

बिहार चुनाव 2020 : नीतीश कुमार का पलड़ा भारी, जानें तेजस्वी के बारे में क्या है लोगों की राय

भाजपा का चुनाव में 70 प्रतिशत स्ट्राइक रेट होगा, उसके 110 में से 77 सीटें जीतने की उम्मीद है। जेडी-यू की 115 सीटों में 63 के लीड के साथ 54.8 प्रतिशत की स्ट्राइक रेट बहुत कम होगी। करीब 60.9 फीसदी उत्तरदाताओं का मानना है कि गठबंधन के सहयोगियों भाजपा और जेडीयू के बीच टकराव होगा, जबकि 39.1 प्रतिशत को ऐसा नहीं लग रहा है। नीतीश कुमार को प्रचार और मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के चेहरे के रूप में पेश किया गया है।

सभी विधानसभा क्षेत्रों को किया गया कवर

यह सर्वेक्षण 1 से 23 अक्टूबर के बीच आयोजित कराया गया था, जिसमें 30,678 उत्तरदाताओं को शामिल किया गया था। पिछले 12 सप्ताहों में कुल ट्रैकर के सैंपल की मात्रा 60,000 से अधिक है। इस सर्वे में सभी 243 विधानसभा क्षेत्रों को कवर किया गया है और इसकी राज्य स्तर पर सटीकता में मार्जिन त्रुटि प्लस/माइनस 3 प्रतिशत और क्षेत्रीय स्तर पर प्लस/माइनस 5 प्रतिशत हो सकती है। पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनावों के लिए मतदान प्रतिशत के अलावा लिंग, आयु, शिक्षा, ग्रामीण / शहरी, धर्म और जाति सहित ज्ञात जनगणना प्रोफाइल का डेटा भी सर्वेक्षण में शामिल किया गया है।

 

Advertisement
Back to Top