प्रभात की मां का खुलासा, कहा - आर्मी ज्वाइन करना चाहता था बेटा, ऐसे बना विकास दुबे का साथी

Gangster Vikas Dubey Aide Prabhat Mishra Wanted To Join The Army Mother Said My Son Innocent - Sakshi Samachar

कानपुर :  कानपुर गोलीकांड के आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर से पहले उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसके कई सहयोगियों का भी सफाया किया था। इसमें प्रभात मिश्रा भी शामिल है। एनकाउंटर में मारे गए प्रभात उर्फ कार्तिकेय मिश्रा  के परिवार ने अब दावा किया है कि वह नाबालिग था।

पढ़ाई में काफी अव्वल था प्रभात मिश्रा
मीडिया से बातचीत में प्रभात की  मां गीता मिश्रा ने बताया कि प्रभात पढ़ाई लिखाई में काफी अव्वल था। वह अपने क्लास के होनहार स्टूडेंट्स में से एक था।  हाईस्कूल में उसको ए-ग्रेडिंग मिली थी। हिंदी में 82 तो अंग्रेजी में 83 नंबर आए थे। परिवार वालों ने बताया कि प्रत्येक कक्षा में उसके इसी तरह से नंबर आए हैं। प्रभात के वारदात में शामिल होने की खबर जिसने भी सुनी वह यह सुनकर हैरान रह गया। प्रभात के ऊपर एक भी क्रिमिनल दर्ज नहीं था।

गैंगस्टर विकास के कैसे संपर्क में आया, मां की जुबानी 
प्रभात की मां के मुताबिक प्रभात मिश्रा को बंदूक लेकर चलना बेहद पसंद था। वह फोर्स में जाना चाहता था, वह पड़ोसी होने के नाते विकास के घर भी आता-जाता था। लेकिन ये किसी को नहीं पता था कि विकास के घर आने-जाने की कीमत उसे अपनी जान देकर चुकानी पड़ेगी। प्रभात की मां ने कहा इकलौते बेटे की मौत से उनकी तो जिंदगी ही तबाह हो गई है।  एनकाउंटर से पहले प्रभात की  अपनी बहन से आखिरी बार बात हुई थी।  इस बातचीत में  तब वह बोला था, नाम नहीं लूंगा जो भी हैं, जहां भी हैं, सब ठीक हैं। इसके बाद फोन कट गया था।

घटना के बाद से ही प्रभात के पिता है फरार
घटना के बाद से प्रभात के पिता राजेन्द्र घर से फरार हैं, वहीं मां गीता व अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हैं। प्रभात की मां गीता के मुताबिक उनका बेटा बेकसूर था। केवल पड़ोसी होने का खामियाजा उसे भुगतना पड़ा है। उसने यूपी बोर्ड से इंटरमीडिएट की परीक्षा 66 फीसदी अंकों के साथ उत्तीर्ण की थी। 

9 जुलाई को हुआ था प्रभात मिश्रा का एनकाउंटर
दुर्दांत विकास दुबे के करीबी प्रभात मिश्राा को पुलिस ने नौ जुलाई को कानपुर में मुठभेड़ के दौरान मार गिराया था। प्रभात की गिनती  विकास दुबे के खास लोगों में की जाती है। बता दें पुलिस प्रभात मिश्रा को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर कानपुर आ रही थी तभी बीच रास्ते में प्रभात ने पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की, इसी दौरान उसने पुलिस पर फायरिंग भी कर दी थी। पुलिस ने भी गोली चलाई तो प्रभात घायल हो गया था। अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

इन तीन लोगों की हुई है गिरफ्तारी
पुलिस ने फरीदाबाद से प्रभात, अंकित और श्रवण को गिरफ्तार किया था। पुलिस का दावा है कि फरीदाबाद से प्रभात को वापस लाते समय पनकी थाना क्षेत्र में गाड़ी पंचर हो गई थी। इस दौरान प्रभात एक दरोगा की पिस्टल लूटकर भागने लगा था। 

Advertisement
Back to Top