कृषि कानूनों को स्थगित करने को तैयार सरकार, संयुक्त मोर्चा आज लेगा प्रस्ताव पर फैसला

Farmers Protest Update Farmers Union Meeting Today  - Sakshi Samachar

ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस के साथ बैठक 

संयुक्त मोर्चा करेगा सरकार के प्रस्ताव पर चर्चा

एमएसपी पर कानून से कम पर कोई समझौता नही

नई दिल्ली :  कृषि कानूनों (Agriculture Law) के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) का आज 57वां दिन है। बुधवार को हुई मीटिंग कुछ हद तक सकारात्मक बताई जा रही है। सरकार ने 10वें दौर की बातचीत में कृषि कानूनों को 18 महीने के लिए स्थगित करने का प्रस्ताव दिया है। सरकार के साथ अगली बैठक 22 जनवरी को दोपहर 12 बजे विज्ञान भवन में होगी। 

वहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने बैठक में कहा कि हमें इस मुद्दे पर मिलकर कोई बीच का रास्ता निकालना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि आखिर कब तक किसान इस आंदोलन के कारण सड़कों पर बैठे रहेंगे। इसके लिए हम सभी को मिलकर समाधान निकालना पड़ेगा।

ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस के साथ बैठक 

वहीं ट्रैक्टर रैली को लेकर गुरुवार को सुबह 11 बजे दिल्ली पुलिस के साथ किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल वार्ता करेगा। इस विषय पर दिल्ली पुलिस के साथ बुधवार भी चर्चा की गई है, लेकिन उसमें कोई सहमति नहीं बन पाई थी।

 संयुक्त मोर्चा करेगा सरकार के प्रस्ताव पर चर्चा

किसान नेता राकेश टिकैत ने कल बताया कि कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि सरकार इन बिलों को 2 साल तक के लिए स्थगित कर किसान और सरकार के प्रतिनिधियों की एक कमेटी का गठन कर सकते हैं। कमेटी बिल वह न्यूनतम समर्थन मूल्य पर चर्चा कर जो राय देगी उसी पर आगे का फैसला कर दिया जाएगा। टिकैत बोले कि सरकार के इस प्रस्ताव पर किसानों ने कहा कि गुरुवार को प्रस्ताव पर संयुक्त मोर्चा की बैठक में निर्णय कर आपको अवगत कराया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें :

गुरुवार को खत्म हो सकती है किसानों और सरकार के बीच तकरार, मिले संकेत

किसानों की ट्रैक्टर रैली पर दखल से SC का इनकार, कहा-ये पूरी तरह पुलिस का मामला

एमएसपी पर कानून से कम पर कोई समझौता नही

कल किसानों संग बैठक में सरकार ने कमेटी बना कर 18 महीनों के लिए कानून को ठंडे बस्ते में डालने की बात कही, लेकिन किसान कानून को खत्म करने से कम पर मानने को तैयार नही हैं। किसानों ने साफ कहा आज की बैठक में कानून खत्म करने और एमएसपी पर कानून से कम पर कोई समझौता नही होगा। 

Advertisement
Back to Top