किसानों से डरी सरकार, फेसबुक पेज बंद करने पर लोगों ने ऐसे निकाली भड़ास

Farmers Protest Facebook removes Official page of kisan Ekta morcha - Sakshi Samachar

किसान एकता मोर्चा पेज को फेसबुक ने किया निष्क्रिय

अकाउंट पर 12 लाख के पार हुए फॉलोअर्स 

नई दिल्ली : सोशल मीडिया पर तेजी से बढ़ रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) पर रविवार को ब्रेक लग गया। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से फेसबुक (Facebook) पर बनाए गए किसान एकता मोर्चा के पेज को रविवार देर शाम निष्क्रिय कर दिया गया। हालांकि, किसानों (Farmers) के नाराजगी जताने के बाद फेसबुक पेज दोबारा शुरू हो गया है। इस पेज को बंद करने पर लोगों ने कड़ा विरोध किया। 

आंदोलनकारी किसान यूनियनों ने आरोप लगाया है कि केन्द्र सरकार के इशारे पर फेसबुक ने रविवार को उनके पेज 'किसान एकता मोर्चा' को ब्लॉक कर दिया है। खुद को आंदोलन की आईटी विंग का प्रमुख बताने वाले बलजीत सिंह ने कहा, "सरकार किसानों से डरती है।" 

फेसबुक पर कटाक्ष करते हुए एक ट्विटर यूजर मनदीप मुक्तसर ने लिखा, "ब्रेकिंग: मार्क जुकरबर्ग राज्यसभा के लिए नामांकित होंगे।"

आंदोलन से जुड़ी आधिकारिक जानकारी के प्रसार के लिए किसान संगठनों ने किसान एकता मोर्चा के नाम से फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर अकाउंट बनाया गया है। फेसबुक पेज बंद होने के बाद किसान एकता मोर्चा के ट्विटर हैंडल से कहा गया कि जब लोग आवाज उठाते हैं तो वे बस यही कर सकते हैं।

किसान एकता मोर्चा के फेसबुक पेज को अनपब्लिश किए जाने पर स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) ने भी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि सरकार और मंत्रियों के बाद अब फेसबुक भी बौखला गया है।

किसान संगठनों ने दी चेतावनी

बाद में इस फेसबुक पेज को बहाल कर दिया गया। किसानों ने रविवार को सरकार को चेतावनी दी थी कि वे 25-27 दिसंबर के बीच हरियाणा के सभी टोल प्लाजा को फ्री कर देंगे।

उन्होंने किसी भी एनडीए के घटक दलों का भी बहिष्कार करने का फैसला किया है। सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में किसान संघों ने कहा, "27 दिसंबर को प्रधानमंत्री (नरेंद्र) मोदी 'मन की बात' में बोलेंगे, लेकिन हम आप सभी से अपील करते हैं कि जब तक प्रधानमंत्री बोलें आप उतनी देर तक बर्तन बजाते रहें।"

फिर से एक्टिव किया पेज 
किसान एकता मोर्चा का फेसबुक पेज बंद होने का मामला जब बढ़ने लगा तो कुछ समय बाद पेज को दोबारा चालू कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक फेसबुक के प्रवक्ता ने इसके लिए खेद जताया है और कहा कि किसान एकता मोर्चा के पेज को दोबारा से चालू कर दिया गया है।

कुछ दिन में लाखों फॉलोअर्स
किसान आंदोलन को सोशल मीडिया पर भी आगे बढ़ाने के लिए कुछ दिन पहले ही संयुक्त किसान मोर्चा ने सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लैटफॉर्म्स पर किसान एकता मोर्चा नाम से अकाउंट बनाया था। कुछ ही दिन में इस अकाउंट पर लाखों की संख्या में फॉलोअर्स हो गए। यही नहीं कई अकाउंट पर लोगों की पहुंच 12 लाख पार कर गई थी।

कृषि कानूनों के विरोध में देश की राजधानी की सीमाओं पर डेरा डालकर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को सोमवार को 26 दिन हो चुके हैं।

Related Tweets
Advertisement
Back to Top