अपराधियों के 'यमराज' पर गिरी योगी सरकार की गाज, अब तक कर चुके हैं 150 एनकांउटर

Encounter Specialist IPS Anant Dev Suspended After Vikas Dubey Connection - Sakshi Samachar

लखनऊ : कानपुर के बिकरू कांड मामले में विशेष अनुसंधान दल (एसआईटी) की जांच रिपोर्ट में पुलिस और गैंगस्टर विकास दुबे के बीच सांठगांठ की बात सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने कानपुर के पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव को बृहस्पतिवार को निलंबित कर दिया। 

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि अनंत देव को निलंबित कर दिया गया है। उनके खिलाफ यह कार्रवाई एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर की गई है। इस सवाल पर कि क्या कुछ अन्य पुलिस अधिकारी भी निलंबित किए गए हैं, अवस्थी ने कहा कि अभी फिलहाल अनंत देव के ही खिलाफ कार्रवाई की गई है। 

गौरतलब है कि गत दो-तीन जुलाई की दरम्यानी रात को कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र स्थित बिकरू गांव में माफिया सरगना विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई गई थीं। इस वारदात में आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी ने पुलिस तथा गैंगस्टर विकास दुबे के बीच सांठगांठ की बात उजागर करते हुए आरोपी पुलिसकर्मियों तथा प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की थी।

कौन हैं आईपीएस अनंत देव
अनंत देव की गिनती यूपी के तेज तर्रार अफसरों में की जाती है। वे उत्तर प्रदेश के फतेहपुर के मूल निवासी हैं। साथ ही कानपुर से उनका गहरा नाता है। परिवार के कई कानपुर में ही  में रहते हैं। आनंद देव ने अपनी शुरुआती पढ़ाई  फतेहपुर से पूरी करने के बाद सिविल सर्विस की तैयारी इलाहाबाद से की। अनंत देव 1986 बैच के पीपीएस अफसर हैं और प्रमोशन के बाद इन्हें आईपीएस बनाया गया। अनंत देव इससे पहले 1998 में कानपुर में तैनात रहे। लगभग एक साल तक कानपुर में तैनाती के दौरान आनंद देव स्वरूप नगर, कलेक्टरगंज समेत तीन सर्किलों की जिम्मेदारी निभाई। इस दौरान अनंत देव ने शहर से गई गिरोहों और अंडरवर्ल्ड से जुड़े अपराधियों का एनकाउंटर किया। आनंद देव ने डी-39 गैंग की कमर तोड दी थी। दाउद इब्राहीम और अतीक गैंग के कई अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया।

150 से ज्यादा एनकांउटर कर चुके हैं
अनंत देव अब तक 150 से ज्यादा एनकांउटर कर चुके हैं। इस बात को खुद आईपीएस अनंत स्वीकार कर चुके हैं।  वे जब फैजाबाद में पोस्टेड थे एक खबर वायरल हुई थी। दरअसल ये खबर सोशल मीडिया पर थी कि उन्होंने अब 60 एनकांउटर किए है। इस बात की जानकारी जब मीडिया ने जाननी चाही तो उन्होंने कहा था कि 60 नहीं, किए तो 150 एनकाउंटर हैं, पर ये अतीत की बाते हैं। इनकी ज्यादा चर्चा नहीं की जानी चाहिए।

साल 2007 में डकैत ददुआ का किया था एनकाउंटर 
अनंत देव तेज-तर्राक एसटीएफ के जवानों के साथ 2007 में मारकुंडी के जंगलो में उतर गए और मुठभेड़ में 5 लाख के इनामी तथा उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश में आतंक का पर्याय बने कुख्यात डकैत ददुआ को मार गिराया। ददुआ पर 5 लाख का इनाम था तथा उस पर डकैती, हत्या और अपहरण के 200 से ज्यादा मामले उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में दर्ज थे। मुठभेड में ददुआ के साथ उसका दाहिना हाथ छोटा पटेल सहित 4 अन्य डकैत भी मारे गए थे। 

ददुआ के गुर्गे ठोकिया के एनकाउंटर की खाई थी कसम
अपने गुरू ददुआ के मारे जाने के बाद उसके चेले ठोकिया ने बदला लेने की कसम खाई और एसटीएफ पर हमला कर दिया। उस दौरान 15 से ज्यादा एसटीएफ के जवान शहीद हुए थे। अपने जवानों की मौत के बाद अनंत देव ने डकैत ठोकिया को मार गिराने की कसम खाई थी। आनंद देव के साथ काम कर चुके एक इंस्पेक्टर ने बताया कि आनंद देव ने तीन दिन बिना खाए ठोकिया के खात्में के लिए ऑपरेशन चलाया। लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। तभी उन्होंने अपने मुखबिरों को लगाया और ठोकिया एक समारोह में भाग लेने के लिए आया और उसका काम वहीं पर कर दिया गया। ददुआ और ठोकिया ददुआ के एनकाउंटर के बाद इन्हें अपराधियों का यमराज तक कहा जाने लगा और बड़े-बड़े डकैत व अपराधियों में इनका खौफ भर गया। इसके बाद से इन्होंने में कई नामी अपराधियों का एनकाउंटर कर उन्हें मार गिराया गया।

Advertisement
Back to Top