कोरोना मरीजों की सेवा में दिन-रात लगी है मां, दूर से बेटी को रोता देख नहीं रोक पाई खुद के आंसू

Emotional Story of Health Worker and Her Daughter in Belgaum Karnataka - Sakshi Samachar

कर्नाटक के बेलगाम का है मामला

मां कोरोना आइसोलेशन वार्ड में है तैनात

मां से दूरी बर्दाश्त नहीं कर पा रही मासूम बेटी

बेलगाम : देश में छिड़ी कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में स्वास्थ्यकर्मी एक 'वॉरियर्स' की तरह बिना अपनी परवाह किए लोगों की सेवा में लगे हैं। तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए भी ये स्वास्थ्यकर्मी दूसरों की जान बचाने के लिए दिन-रात एक कर रहे हैं। इस दौरान कई ऐसी तस्वीरें सामने आती है, जिसे देखकर आपका भी दिल पसीझ जाएगा। कर्नाटक में मां-बेटी की ऐसी ही एक तस्वीर सामने आई है।

कर्नाटक के बेलगाम में एक महिला स्वास्थ्यकर्मी कोरोना आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी कर रही हैं। परिवार पर कोई मुसीबत न आए इसलिए उन्होंने खुद को पति और बच्चों से दूर कर रखा है। लेकिन महिला स्वास्थ्यकर्मी की बच्ची अपनी मां से दूरी बर्दाश्त नहीं कर पाती है। इसलिए महिला का पति बच्ची को उसकी मां को दूर से ही दिखाता है।

मां की दूरी को नन्ही बच्ची बर्दाश्त नहीं कर पाती और रोने लगती है। बेटी को रोता देख मां की आंख में भी आंसू आ जाते हैं। वह दूर से ही बेटी को देखती रहती हैं। थोड़ी देर में ही वह अपने पति को इशारा करती हैं कि वह बेटी को लेकर यहां से जाएं।

यह भी पढ़ें :

कोरोना की जंग हार गया 14 महीने का मासूम, देश के सबसे नन्हें मरीज की मौत

कोरोना महामारी के बीच हुआ बच्चे का जन्म, माता-पिता ने रख दिया लॉकडाउन नाम

ऐसा मामला कोई एक नहीं है। पूरे देश में स्वास्थ्यकर्मियों को इन दिनों अपने घर-परिवार से दूर रहना पड़ रहा है। वह सिर्फ लोगों की सेवा के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं। वह घर भी इसलिए नहीं जाते ताकि उनके द्वारा परिवार के किसी सदस्य को संक्रमण न हो जाए।

Advertisement
Back to Top