PM मोदी की सुरक्षा में तैनात था ये एंटी ड्रोन सिस्टम, जानें इसकी खासियत

DRDO Anti Drone System Deployed For Pm Modi Security In Redfort  Know its specialty - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : भारत आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर लाल किले की प्रचीर से झंडा फहराने के बाद देश को संबोधित किया। इस दौरान सुरक्षा एजेंसी ने लाल किले की चाक चौबंद व्यवस्था की हुई थी। कोरोना के संक्रमण को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा गया।

लाल किले की सुरक्षा में डीआरडीओ द्वारा तैयार एंटी ड्रोन सिस्टम की तैनाती की गई थी, जो कि छोटे से छोटे ड्रोन को तीन किलोमीटर के दायरे में आने से रोकता है। साथ ही एक से ढाई किलोमीटर के दायरे में उसे लेजर की मदद से मार गिराने में सक्षम होता है।

क्या है इसकी खासियत?
- ये छोटे से छोटे ड्रोन को तीन किलोमीटर के दायरे में आने से रोकता है।
- जैमिंग के माध्यम से या लेजर-आधारित डायरेक्टेड एनर्जी वेपन से ड्रोन के इलेक्ट्रॉनिक्स को आने से रोकता है।
- लेजर हथियारों के वाट क्षमता के आधार पर तीन किलोमीटर तक के माइक्रो ड्रोन का पता लगा सकती है।
- ये एंटी ड्रोन  एक से ढाई किलोमीटर के दायरे में लेजर की मदद से मार गिराने की क्षमता रखता है।

पीएम मोदी के संबोधन की मुख्य बातें
पीएम मोदी ने लाल किले से 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पूरे देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कुल 87 मिनट का भाषण दिया। इस दौरान उन्होंने आत्मनिर्भर, आत्मनिर्भर भारत, कोरोना संकट, आतंकवाद, रिफॉर्म, मध्यमवर्ग और कश्मीर का जिक्र किया, लेकिन सबसे ज्यादा आत्मनिर्भर भारत पर था। प्रधानमंत्री ने कहा, भारत अगली साल आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश करेगा। ऐसे में अब भारत का आत्मनिर्भर भारत बनना जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा, भारत जो ठान लेता है, वह करके मानता है। मुझे ये पूरा विश्वास है। उन्होंने कहा, आत्मनिर्भर भारत का मतलब सिर्फ आयात कम करना ही नहीं, हमारी क्षमता, हमारी क्रिएटीविटी हमारी स्किल्स को बढ़ाना भी है। सिर्फ कुछ महीना पहले तक N-95 मास्क, PPE किट, वेंटिलेटर ये सब हम विदेशों से मंगाते थे
 

Advertisement
Back to Top