धारावी में एक की मौत के बाद दो और कोरोना पॉजिटिव, बढ़ा हजारों जिंदगियों पर खतरा

Dharavi on corona risk biggest slums in asia - Sakshi Samachar

धारावी में कोरोना पाजिटिव के दो और मामले 

बुधवार को हुई थी एक व्यक्ति की मौत

बढ़ रहा घनी आबादी में कोरोना का खतरा

मुंबई : दुनिया भर में महामारी बन चुका कोरोना देश के कुछ प्रदेशों में तेजी से पांव पसार रहा है। इनमें महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा कोरोना के फैलने का खतरा है। वहीं अब सबसे बड़ी समस्या तो ये है कि इस खतरनाक बीमारी ने धारावी में भी दस्तक दे दी है। कोरोना पॉजिटिव के दो मामले सामने आए हैं ।इससे पहले बुधवार को एक व्यक्ति की यहां कोरोना से मौत हुई थी। जिसके बाद उसके पूरे परिवार को क्वैरेंटाइन किया गया था। 

 गुरुवार रात एक और व्यक्ति के कोरोना पॉजिटिव पाये जाने की खबर सामने आई है। धारावी मे 35वर्षीय डॉक्टर को इस बीमारी ने अपनी चपेट में ले लिया है। ये डॉक्टर इस इलाके में अपना क्लीनिक चलाते हैं. जिनकी कोई ट्रैवेल हिस्ट्री नहीं है। लेकिन ये इस बस्ती के लोगो के संपर्क में रहे  हैं। अब तक कुल तीन कोरोना के  तीन मामले सामने आ चुके हैं । जिसमें एक व्यक्ति की मौत, जबकि दो लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गये हैं। जिससे ये साफ हो गया है कि एशिया की सबसे बड़ी आबादी वाली इस झोपड़पट्टी इलाके में इस बीमारी ने प्रवेश कर लिया है। 

पहले एक व्यक्ति की कोरोना से मौत उसके ठीक दूसरे दिन दो अन्य व्यक्तियों  का कोरोना पॉजिटिव पाया जाना इस बात का संकेत है कि खतरे की घंटी बज चुकी है। हजारों जिंदगियों पर खतरा मंडराने लगा है। सरकार और लोगों को सचेत हो जाना चाहिय। अगर इस इलाके में कोरोना फैला तो सरकार के लिये भी संभालना मुश्किल हो सकता है। 

धारावी घनी आबादी वाला क्षेत्र है,  600 से भी ज्यादा हेक्टेयर में फैले इस इलाके में करीब 12 लाख से ज्यादा लोग रहते हैं। इस इलाके में छोटे व्यवसाई और श्रमिक निवास करते  हैं। घटना के बाद इस इलाके में अब संक्रमण के फैलने का खतरा बढ़ गया है।

इसे भी पढ़ें :

कोरोना के खिलाफ जंग में बेहद अहम साबित होगा 9 मिनट, जानिए क्यों पीएम ने की यह अपील​

भारत में कोरोना फैलने का खतरा इस लिये भी ज्यादा है कि यहां की बस्तियां घनी आबादी वाली हैं। दूसरा यहां की आबादी भी ज्यादा है। भारत में 420 लोग प्रति वर्ग किलोमीटर में निवास करते हैं। जबकि चीन में 148 व्यक्ति प्रति वर्गकिलोमीटर का आंकडा  है। इस लिहाज से मुंबई के धारावी जैसे इलाकों में इसे फैलने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। धारावी का हाल तो कुछ ऐसा है कि मात्र खांसने और सांस लेने से भी यहां लोग संक्रमित हो सकते हैं

Advertisement
Back to Top