प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे किसानों ने फेंकी बैरिकेडिंग, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

Delhi border seal for Punjab Haryana Farmers protest over Agriculture laws - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : राष्ट्र राजधानी दिल्ली(Delhi) में आज पंजाब और हरियाणा(Haryana) के किसान विशाल प्रदर्शन करने पहुंच है। ये किसान केंद्र की ओर से पास किए गए कृषि कानूनों(Agriculture Laws) का व्यापक विरोध कर रहे हैं। दिल्ली कूच कर रहे किसानों का प्रदर्शन अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर उग्र हो गया है। यहां किसानों ने बैरिकेडिंग को उखाड़ फेंका है।

कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए दिल्ली में आगे बढ़ने के लिए, हरियाणा के करनाल में कर्ण झील इलाके के पास बड़ी संख्या में किसान इकट्ठा हो गए।

वहीं दूसरी तरफ अंबाला पटियाला बॉर्डर पर उग्र प्रदर्शन को रोकने के लिए किसानों पर पानी की बौछार की जा रही है, आंसू गैस के गोले छोड़े गए हैं। दावा किया जा रहा है कि भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले हजारों किसान आज और कल दिल्ली में प्रदर्शन करेंगे।

अंबाला पटियाला बॉर्डर पर किसानों और पुलिस में टकराव हुआ। इस दौरान किसानों ने जबरन हरियाणा सीमा में प्रवेश कर लिया, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया है।

राजीनितक प्रतिक्रिया

किसानों के प्रदर्शन पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर लिखा कि किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है। किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं।

सीएम केजरीवाल ने किया किसानों का समर्थन

किसानों के प्रदर्शन पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है. केंद्र सरकार के तीनों खेती बिल किसान विरोधी हैं. ये बिल वापिस लेने की बजाय किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने से रोका जा रहा है, उन पर वॉटर कैनन चलाई जा रही हैं. किसानों पर ये जुर्म बिलकुल गलत है, शांतिपूर्ण प्रदर्शन उनका संवैधानिक अधिकार है।

दिल्ली में किसानों(Farmers) के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली-हरियाणा सीमा पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। हरियाणा ने भी पंजाब से लगती सीमा को सील कर दिया है। अंबाला में किसानों पर पानी की बौछार की गई, फिर भी किसानों का काफिला आगे बढ़ गया है। हालांकि बड़ी संख्या में और भी किसान दिल्ली कूच करने को तैयार हैं। हरियाणा सरकार ने कहा है कि पंजाब से लगने वाली सीमा 2 दिनों के लिए सील रहेगी।

दिल्ली पुलिस ने बढाई चौकसी 
किसानों की एंट्री रोकने के लिए दिल्ली पुलिस भी तैयारी कर चुकी है। पुलिस ने राजधानी में प्रदर्शन करने के किसान संगठनों की सभी मांगों को ठुकरा दिया है। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि कोरोना संक्रमण के दौर में अगर किसान दिल्ली में जमा होते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 

दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर बैरिकेडिंग
दिल्ली फरीदाबाद बॉर्डर पर तैनात पुलिस कर्मी ने बताया कि यहां सीआरपीएफ की 3 टीमें, 2-3 पुलिस थानों के पुलिस बल और होमगार्ड जवान यहां हैं। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी बॉर्डर पर चक्कर लगा रहे हैं। आने वाले वाहनों की जांच की जा रही है। किसानों के 'दिल्ली चलो' प्रदर्शन के बीच दिल्ली-हरियाणा के सिंघू बॉर्डर पर भी पुलिस तैनात है। सिंघू बॉर्डर पर बैरिकेड लगा दिए गए हैं।   

दिल्ली के सीएम इलाकों में मेट्रो सेवा बंद 
किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली मेट्रो ने अपनी टाइमिंग में कुछ बदलाव किए हैं। इसकी वजह से दोपहर 2 बजे तक दिल्ली से नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद और गुरुग्राम तक मेट्रो सेवाएं बंद रहेगी। यानी 2 बजे तक दिल्ली से कोई भी मेट्रो नोएडा, गुरुग्राम, गाजियाबाद, फरीदाबाद नहीं जाएगी।

डीएमआरसी के मुताबिक ब्लू लाइन पर आज सुबह से दोपहर दो बजे तक आनंद विहार से वैशाली और न्यू अशोक नगर से नोएडा सिटी सेंटर तक मेट्रो की सेवाएं बंद रहेगी। येलो लाइन पर सुल्तानपुर मेट्रो स्टेशन से लेकर गुरु द्रोणाचार्य मेट्रो स्टेशन तक भी सेवाएं बंद रहेगी। 

यहां २ बजे तक मेट्रो सेवा बंद -

  • टिकरी कलां से ब्रिग हाशियार सिंह
  • कश्‍मीरी गेट से बदरपुर बॉर्डर वाले मेट्रो रूट 
  • बदरपुर बॉर्डर से मेवला महाराजपुर तक 
  • जसोला विहार से बोटैनिकल गॉर्डन तक
  • दिलशाद गार्डन से मेजर मोहित शर्मा राजेंद्र नगर 

मेट्रो के मुताबिक 2 बजे के बाद सभी रूट पर मेट्रो की सामान्य सेवाएं चलेगी।

हरियाणा में कई जगहों पर धारा-144 लगा दी गई है। हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा है कि 26 और 27 नवंबर के लिए पंजाब के लिए बस सेवा भी बंद कर दी गई है।

चंडीगढ़ से हरियाणा आने वाली बस सेवा को भी दो दिनों के लिए सस्पेंड कर दिया गया है ताकि पंजाब से किसान दिल्ली की ओर न आ सकें। हालांकि किसानों का काफिला दिल्ली के लिए कूच कर चुका है। 

प्रदर्शन में शामिल होंगी हजारों महिलाएं
भारतीय किसान यूनियन (EU) के महासचिव सुखदेव सिंह ने कहा है कि इस विरोध मार्च में 25 हजार महिलाएं और 4000 ट्रैक्टर शामिल होंगे। इस संगठन ने कहा है कि उनके लगभग दो लाख सदस्य खनौरी और डबावली से हरियाणा में प्रवेश करेंगे।
 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top