मुंबई में कमजोर पड़ा निसर्ग तूफान, खतरा टला, तेज हवाओं के साथ बारिश जारी

Cyclone Nisarga weakened in Mumbai but Rain Continues with Heavy winds  - Sakshi Samachar

110 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक गति से हवाएं चल रही हैं

13,541 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया

मुंबई :  चक्रवाती तूफान निसर्ग के मुंबई और महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्र को पार कर जाने से बड़ा खतरा टल गया है, हालांकि मौसम विभाग के मुताबिक मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश जारी रहेगी और इस दौरान हवाएं 50 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार से चल सकती हैं।

महाराष्ट्र में तेज हवाओं और बारिश की वजह से कई इलाकों में बड़े-बड़े पेड़ टूटकर गिर गए। तूफान की तीव्रता को देखते हुए बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई थी। मुंबई, रत्नागिरी, ठाणे और रायगढ़ में तेज हवाओं के साथ लगातार बारिश हो रही है और पक्के मकानों में शिफ्ट किए गए लोगों के साथ इन क्षेत्रों के लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलने की सलाह दी गई है। तूफान की तीव्रता को देखते हुए मुंबई हवाई अड्डे पर पहले शाम 7 बजे तक सभी प्रकार की हवाई सेवाएं रोक देने की घोषणा की थी, लेकिन बाद में 6 बजे से हवाई एड्डे पर टेकऑफ और लैंडिंग सेवा शुरू करने की जानकारी दी गई है।

महाराष्ट्र में एनडीआरएफ के कुल 20 टीमें तैनात की गई हैं, जिसमें केवल मुंबई में 8 टीमें तैनात की गई थीं, जबकि  रायगढ़ में 5 टीमें, पालघर में 2 टीमें, थाने में 2 टीमें, रत्नागिरी में 2 टीमें और सिंधूदुर्ग में 1 टीम की तैनाती है। वहीं, कुछ टीमों को स्टैंडबाई पर रखा गया था। बता दें कि दो हफ्ते में देश को दूसरे समुद्री तूफान का सामना करना पड़ रहा है। पहले अम्फान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाई थी।

इससे पहले  चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग' , महाराष्ट्र के तट पर अलीबाग के पास पहुंचा, जिसके चलते 110 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक गति से हवाएं चल रही हैं, भारी वर्षा हो रही है और कई पेड़ तथा बिजली के खंभे धराशायी हो गए हैं। यह जानकारी रायगढ़ जिले के एक अधिकारी ने दी। जिला कलेक्टर निधि चौधरी ने कहा कि चक्रवात से रायगढ़ से 87 किलोमीटर दूर श्रीवर्धन का दिवे आगर क्षेत्र प्रभावित हुआ है। कलेक्टर ने कहा, ‘‘तेज हवाओं से श्रीवर्धन और अलीबाग में कई पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए हैं।'' उन्होंने कहा कि अभी तक 13,541 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है। 

उन्होंने कहा, ‘‘हमने (रायगढ़ में) तटीय क्षेत्र के पास के पांच किलोमीटर के दायरे में आने वाले 62 गांवों की पहचान की है और वहां अतिरिक्त एहतियात बरत रहे हैं।'' उन्होंने लोगों से अपील की वे अपनी सुरक्षा के लिए बृहस्पतिवार सुबह तक घरों के भीतर ही रहें। भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, चक्रवात के मुंबई से 95 किलोमीटर दूर अलीबाग के पास पहुंचने की प्रक्रिया अपराह्न करीब साढ़े 12 बजे आरंभ हो गई थी। 

इसे भी पढ़ें : 

Cyclone Nisarga : महाराष्ट्र पहुंचा तूफान निसर्ग, समुद्र की बेकाबू हुई लहरें, उखड़े पेड़

आईएमडी ने एक बयान में कहा, ‘‘घने बादलों का दाहिना हिस्सा महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्र, खासकर रायगढ़ जिले से होकर गुजर रहा है। यह आगामी तीन घंटे में मुंबई और ठाणे जिलों में प्रवेश करेगा।'' इस बीच कलेक्टर ने कहा कि गिरे हुए पेड़ों और बिजली के खंभों को अगले कुछ दिनों में हटा दिया जाएगा और नये खंभे लगाये जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘रायगढ़ के केवल तटीय क्षेत्र ही नहीं बल्कि रोहा, ताला, सुधागढ़, खालापुर, मानगांव, पनवेल और पोलादपुर जैसे इलाकों के निवासियों को भी पूरी तरह सतर्क रहना होगा।'' 

Advertisement
Back to Top