Cyclone Nisarga : महाराष्ट्र पहुंचा तूफान निसर्ग, समुद्र की बेकाबू हुई लहरें, उखड़े पेड़

Cyclone Nisarga Live Updates Nisarga Hit Maharashtra And Gujarat Today - Sakshi Samachar

महाराष्ट्र के समुद्री तट से टकराया चक्रवात निसर्ग

मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की जारी हुई एडवाइजरी

मौसम विभाग ने बताया, करीब 120 किमी/घंटा की रफ्तार से चलेगी हवा

मुंबई : महाराष्ट्र में चक्रवात 'निसर्ग' ने दस्तक दे दी है। तेज हवाओं के साथ समुद्र में ऊंची-ऊंची लहरें देखी जा रही हैं, जबकि कई जगह सड़कों पर पेड़ गिरे नजर आ रहे हैं। महाराष्ट्र, गुजरात और दमन में विशेष अलर्ट जारी किया गया है। एनडीआरएफ ने अपनी तैयारी पूरी कर ली है और समुद्र तटों पर टीम की तैनाती कर दी है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में चक्रवात निसर्ग के रायगढ़ के तट से टकराने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और यह तीन घंटे तक जारी रहेगी। चक्रवात तटीय महाराष्ट्र से होकर गुजरा है, जो मुख्य रूप से रायगढ़ जिले को कवर करता है।

आईएमडी ने कहा, "चक्रवात का केंद्र महाराष्ट्र तट के बहुत करीब है। टकराने की प्रक्रिया शुरू हो गई है, जो तीन घंटे में पूरी होगी।" वर्तमान में चक्रवात का उत्तर-पूर्व क्षेत्र भूमि में प्रवेश कर रहा है। गंभीर चक्रवात अगले तीन घंटे में अलीबाग के करीब महाराष्ट्र तट को पार कर जाएगा। आईएमडी ने दोपहर 12 बजे के बुलेटिन में कहा, "अगले तीन घंटों के दौरान चक्रवात धीरे-धीरे मुंबई और ठाणे जिले में प्रवेश करेगा।"

चक्रवात निसर्ग के समुद्र तट से टकराने के खतरे को देखते हुए महाराष्ट्र्र और गुजरात ने राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दलों को तैनात कर दिया है और जिन क्षेत्रों के चक्रवात से प्रभावित होने की आशंका है वहां से लोगों को सुरक्षित निकाला जा रहा है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर उन्हें केंद्र द्वारा हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया है। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि अगले 12 घंटे में निसर्ग चक्रवात के “गंभीर चक्रवाती तूफान” का रूप लेने की प्रबल आशंका है और यह बुधवार दोपहर को महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तट को पार कर जाएगा। 

मुंबई के मौसम विज्ञान विभाग के उप महानिदेशक के एस होसलिकर ने ट्वीट कर बताया कि चक्रवाती तूफान उत्तरी महाराष्ट्र और हरिहरेश्वर और दमन के बीच अलीबाग के पास दक्षिण गुजरात के तट को तीन जून को पार करेगा और हवा की गति 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि चक्रवाती तूफान को देखते हुए लोगों को बचाकर निकालने के वास्ते राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 10 दलों को राज्य के तटवर्ती क्षेत्रों में तैनात किया गया है। 

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से ट्विटर पर एक तस्वीर के माध्यम से कहा गया, “एनडीआरएफ के 16 दलों में से 10 को चक्रवात के दौरान बचाव अभियान के लिए तैनात किया गया है और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की छह इकाइयों को रिजर्व रखा गया है।”

गुजरात में भी अलर्ट

गुजरात में प्रशासन ने चार तटीय जिलों से 78,000 लोगों को निकालने का काम शुरू कर दिया है। राहत आयुक्त हर्षद पटेल ने गांधीनगर में संवाददाताओं से कहा कि एनडीआरएफ के 13 और एसडीआरएफ के छह दलों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि वलसाड, सूरत, नवसारी और भरुच जिले में रहने वाले 78,971 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। 

पटेल ने कहा, “कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए बचाव दलों को पीपीई किट दी गई है और आश्रय के स्थान पर सामाजिक दूरी और मास्क जैसे एहतियाती उपाय बरतने को कहा गया है।” समुद्र तट के किनारे रहने वालों के लिए एक राहत भरी खबर में आईएमडी ने कहा कि चक्रवात के गुजरात के तट से टकराने की संभावना नहीं है। हालांकि इसका प्रभाव तेज हवाओं और भारी बारिश के रूप में देखने को मिल सकता है। 

गुजरात मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जयंत सरकार ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, “वर्तमान अनुमान के अनुसार चक्रवात मुंबई के निकट अलीबाग पर टकराएगा। हालांकि चक्रवात दक्षिण गुजरात को पार नहीं करेगा, इसका प्रभाव तेज हवाओं और भारी बारिश के रूप में देखने को मिल सकता है।” 

यह भी पढ़ें : 

'अम्फान' के बाद अब 'हिका' तूफान का खतरा, 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चलेगी हवा

निसर्ग तूफान ने दी दस्तक, 100KM की रफ्तार से चलेगी हवा, 24 घंटे में महाराष्ट्र के तट से टकराएगा, अलर्ट जारी

कोलंबिया विश्वविद्यालय में वातावरण विज्ञान विभाग के प्रोफेसर एडम सोबेल के अनुसार मुंबई में 1891 के बाद कोई बड़ा चक्रवाती तूफान नहीं आया है। मुंबई में 2005 में भयंकर बाढ़ आई थी और उसके बाद 2017 और 2019 में भी शहर जलमग्न हो गया था, लेकिन इसका कारण चक्रवात नहीं था। आईएमडी के मुताबिक बुधवार को मुंबई के निचले स्थानों में रहने वालों को भारी बारिश, तेज हवाएं, समुद्र में ऊंची उठती लहरें और तूफान का सामना करना पड़ सकता है।

Advertisement
Back to Top