तबलीगी जमात के मुखिया साद के संपर्क में है क्राइम ब्रांच, फिर पकड़ में क्यों नहीं मौलाना!

The crime branch is in touch with the head of the Tablighi Jamat Maulana Saad, then why he is not behind the bar - Sakshi Samachar

तमाशाबाजी से बाज नहीं आ रहीं टीमें 

हुक्मतामीली के चक्कर में फंसे SP-दारोगा

आला अफसरों की चुप्पी है इसकी चश्मदीद

पुलिस के संपर्क में है मौलाना साद

नई दिल्ली : निजामुद्दीन बस्ती स्थित मरकज तबलीगी जमात मुख्यालय का 'तिलिस्म' कथित लाख कोशिशों के बावजूद टूटने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना के कोहराम में तबलीगी जमात मुख्यालय की करतूतों का भांडा फूटने के बाद भी पुलिस का वही पुराना हाल है। जमात मुख्यालय में कोरोना जैसी महामारी कथित रूप से पाली जा रही थी और यह सब जानते हुए भी दक्षिण-पूर्वी दिल्ली जिले के निजामुद्दीन थाने की पुलिस कान में तेल डाले सोती रही।

तमाशाबाजी से बाज नहीं आ रहीं टीमें 
जमाती निजामुद्दीन थाने के मुंह (मुख्य द्वार) पर बसें खड़ी करके जमात मुख्यालय में मजमा लगाने पहुंचते रहे। तबलीगी मुख्यालय का तिलिस्म तोड़ने के नाम पर दिल्ली पुलिस अपराध-शाखा की टीमें कथित तमाशाबाजी से बाज नहीं आ रही हैं। जब से दिल्ली दमकल और स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने साफ-सफाई, सेनेटाइज करके जमात मुख्यालय को छोड़ा है, तकरीबन बे-नागा दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की टीमें यहां पहुंच रही हैं।

हुक्म तामीली के चक्कर में फंसे SP-दारोगा
मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच टीम के डीसीपी जॉय टिर्की रोजाना एक-दो सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी), दो-चार इंस्पेक्टर-दारोगा, हवलदार-सिपाहियों को कोरोना से बचाव की ड्रेस पहनाकर यहां ला-ले जा रहे हैं। डीसीपी साहब के हुक्म तामीली के चक्कर में फंसे बेचारे एसीपी-दारोगा पड़ताल के नाम पर घंटों इस वीरान-सूने पड़े मरकज तबलीगी जमात मुख्यालय की नौ-मंजिलों में ऊपर-नीचे घूम-फिर कर लौट जा रहे हैं।

आला अफसरों की चुप्पी है इसकी चश्मदीद
तबलीगी मुख्यालय मामले में दिल्ली पुलिस के संबंधित आला अफसरों की चुप्पी इस सबकी चश्मदीद है। अगर वाकई दिल्ली अपराध शाखा जांच कर रही है तो फिर उसे चार दिन में अभी तक आखिर मिला कुछ क्यों नहीं है? अगर पड़ताल के दौरान पुलिस को कुछ मिला है तो फिर वह जमाने के सामने जांच जारी है की आड़ लेकर पड़ताल की हकीकत खोलने में क्यों शरमा-कतरा रही है?

फरार नहीं है मौलाना मो. साद कांधलवी
सूत्रों के मुताबिक, यह शोरगुल भी महज एक फरेब ही है कि मौलाना साद कहीं गायब हो गया है या फिर फरार मौलाना साद को तलाशने में पुलिस को पसीना आ गया है। दिल्ली पुलिस के ही सूत्रों और खुफिया जानकारियों के मुताबिक, वांछित चल रहे मौलाना मो. साद कांधलवी कहीं फरार नहीं है। दिल्ली पुलिस अपराध शाखा और मौलाना साद के सिपहसलार सब एक-दूसरे के लगातार संपर्क में हैं। न मौलाना गायब है, न ही दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच का लाव-लश्कर मौलाना को तलाशने में पसीना न्योछावर कर रहा है।

इसे भी पढ़ें : जमातियों ने तो हद ही कर दी, डॉक्टरों से मांग रहे चाय, बीड़ी और सिगरेट

पुलिस के संपर्क में है मौलाना
"मौलाना कहीं भागा नहीं है। वह किसी न किसी तरह से पुलिस के संपर्क में है। मौलाना साद ने चोरी नहीं की है, जो पुलिस से भागेगा। वक्त आने पर सामने आकर मौलाना साहब पुलिस को तफसील से सारी बात बताएंगे।" यह बात मौलाना मो. साद कांधलवी के ही विश्वासपात्र ने दो दिन पहले फोन पर कही थी। ऐसे में दिल्ली पुलिस अपराध शाखा कारिंदों का रोज-रोज कोरोना बचाव की ड्रेस पहन कर खाली मरकज मुख्यालय खंगालने पहुंच जाना, किधर इशारा करता है? हर कोई समझ सकता है।

भीड़ पर ड्रोन कैमरों से रख रहे हैं नजर
दो दिन पहले यूपी के शामली जिले में स्थित कांधला थाने के कोतवाल इंस्पेक्टर कर्मवीर सिंह से फोन पर बात हुई। एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा था, "मेरे इलाके में मौलाना मोहम्मद साद कांधलवी का एक बड़ा फार्म हाउस है। लेकिन मौलाना साद को वहां कभी देखा नहीं गया। हम लोग रुटीन जांच में लॉकडाउन के दौरान भी भीड़ पर ड्रोन कैमरों से नजर रख रहे हैं। मौलाना साद की बात छोड़िये, उनकी परछाई तक हमें ड्रोन वीडियो में नहीं दिखाई दी।"

कांधला पुलिस से जरूर मदद मांगती दिल्ली पुलिस
जाहिर सी बात है कि अगर वास्तव में दिल्ली पुलिस से मौलाना दूर होता, हकीकत में दिल्ली पुलिस मौलाना साद को पकड़ने के लिए व्याकुल होती तो वह कांधला पुलिस से जरूर मदद मांगती। एक सवाल के जबाब में कोतवाल इंस्पेक्टर कांधला ने कहा, "नहीं, मौलाना मो. साद कांधलवी के बारे में दिल्ली पुलिस ने अभी तक हमसे कोई मदद नहीं मांगी है।"

इसे भी पढ़ें : RSS ने तबलीगी जमात पर दिखाया 'आक्रोश', कोरोना के आंकड़ों ने कर दिया है सबको बेनकाब​

क्या दिल्ली पुलिस की रेंज में है मौलाना साद 
ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि क्या वाकई मौलाना साद दिल्ली पुलिस की रेंज में है? अगर हां तो फिर क्राइम ब्रांच की टीमें रोजाना कोरोना लिबास पहन कर वीरान मरकज तबलीगी जमात मुख्यालय में जाकर वक्त खराब क्यों कर रही हैं? अगर मौलाना दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की हद से बाहर निकल चुके हैं तो फिर पुलिस ने अभी तक आसपास के उन राज्यों के लिए पुलिस को अलर्ट जारी क्यों नहीं किया है, जहां मौलाना के छिपने के संभावित ठिकाने हो सकते है?

'मरकज हेडक्वार्टर' जाकर वक्त खराब क्यों कर रही है पुलिस
जानकारी के मुताबिक, अपराध शाखा के डीसीपी कहने देखने को दल-बल के साथ मंगलवार को भी सूने वीरान जमात मुख्यालय पहुंचे थे, लेकिन सवाल फिर वही कि जब मौलाना पुलिस की हद से दूर नहीं है और मरकज तबलीगी मौलाना साद व उनके शागिर्दों, शुभचिंतकों द्वारा कथित रूप से खाली किया जा चुका है, तो फिर पुलिस 'मरकज हेडक्वार्टर' में जाकर वक्त खराब क्यों कर रही है?

नोटिस का जबाब भिजवा दिया
हाल ही में मीडिया में खबरें आईं कि मौलाना मो. साद हरियाणा के मेवात में छिपा हो सकता है। मेवात तबलीगियों का बड़ा अड्डा है। जबकि मौलाना मो. साद ने अपने बेटे मो. यूसुफ के जरिए दिल्ली पुलिस अपराध शाखा को नोटिस का जबाब भिजवा दिया। इससे भी साफ है कि मौलाना मो. साद जहां भी है, हर हाल में दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की नजरों में है। फिर मौलाना की तलाश, पड़ताल या फिर तबलीगी जमात का तिलिस्म तोड़ने के नाम पर दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की आखिर इस कदर की तमाशेबाजी क्यों?

दिल्ली पुलिस ने नहीं मांगी कोई मदद
देश की राजधानी दिल्ली में मंगलवार को दिन भर चर्चा रही कि मौलाना मो. साद कांधलवी हरियाणा के मेवात-नूंह न जाकर उत्तर प्रदेश की सीमा में पहुंच गया है। हालांकि उत्तर प्रदेश पुलिस एसटीएफ के एक आला अफसर ने साफ कहा, "नहीं, फिलहाल अभी तक तो दिल्ली पुलिस ने हमसे कोई मदद नहीं मांगी है। आगे सबकुछ दिल्ली पुलिस पर निर्भर करेगा। हम अपने राज्य में छिपे दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज तबलीगी जमात मुख्यालय से गायब तबलीगियों की तलाश में जुटे हैं।"

इसे भी पढ़ें : हर राज्य की सरकारों को खोजना होगा जमातियों का इलाज, वरना महंगे पड़ेंगे हालात

Advertisement
Back to Top