केंद्र ने की पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के सम्मान में 7 दिवसीय राष्ट्रीय शोक की घोषणा

Centre Govt Declares Seven Day National Mourning To Pranab Mukherjee - Sakshi Samachar

सोनिया गांधी ने जताया शोक

राहुल गांधी ने दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली : देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का सोमवार को निधन हो गया। उनके बेटे अभिजीत मुखर्जी ने यह जानकारी दी। दिल्ली कैंट स्थित आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में उनका इलाज किया जा रहा था। आज सुबह ही अस्पताल की तरफ से बताया गया था कि फेफड़ों में संक्रमण की वजह से वह सेप्टिक शॉक में थे। मुखर्जी के निधन पर भारत सरकार ने 31 अगस्त से छह सितंबर तक सात दिवसीय राजकीय शोक घोषित किया है। गृह मंत्रालय के मुताबिक पूरे देश में 31 अगस्त से 6 सितंबर तक राष्ट्रीय शोक की घोषणा की जा रही है।

सोनिया गांधी ने जताया शोक

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर सोमवार को दुख जताया और सार्वजनिक जीवन में रहते हुए किए गए उनके योगदान को याद किया। मुखर्जी की पुत्री शर्मिष्ठा को भेजे शोक संदेश में सोनिया ने परिवार के प्रति गहरी संवेदना भी प्रकट की। 

उन्होंने कहा, ‘‘ प्रणब दा पांच दशकों से अधिक समय तक सार्वजनिक जीवन, कांग्रेस पार्टी और केंद्र सरकार का अभिन्न हिस्सा रहे। उन्होंने हर पद पर आसीन होने के साथ उसे सुशोभित करने का काम किया और अपने साथियों के साथ उनकी वास्तव में घनिष्टता थी। उनका पिछले 50 वर्षों से अधिक का जीवन भारत के 50 वर्षों के इतिहास को प्रतिबिंबित करता है।'' 

सोनिया ने कहा कि मुखर्जी ने कैबिनेट मंत्री, सांसद और राष्ट्रपति के तौर पर देश के लिए कई महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाईं। उन्होंने कहा, ‘‘उनके साथ काम करने को लेकर मेरी निजी तौर पर बहुत सारी सुखद यादें हैं। कांग्रेस पार्टी उनके निधन पर गहरा शोक प्रकट करती है और उनकी स्मृति का सदैव सम्मान करेगी।'' 

राहुल गांधी के साथ उनके पूर्व सहयोगियों ने दी श्रद्धांजलि 

राहुल ने ट्वीट कर कहा, "हमारे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जी के दुखद निधन की खबर मिली। देश बहुत दुखी है। मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने में खुद को देश के साथ जोड़ता हूं। उनके परिवार और मित्रों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है।"

कांग्रेस ने भी पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर शोक व्यक्त किया

पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा, "हम प्रणब मुखर्जी के निधन से बहुत दुखी हैं। भारत के पूर्व राष्ट्रपति और कांग्रेस पार्टी के सबसे बड़े नेताओं में से एक, प्रणब मुखर्जी को हमेशा उनकी अखंडता और करुणा के लिए याद किया जाएगा। हमारी प्रार्थनाएं उनके परिवार, फॉलोअर और राष्ट्र के साथ है।"

कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने दिग्गज कांग्रेसी नेता की मौत पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, 'एक युग का अंत हो गया है'। सुरजेवाला ने ट्वीट किया, "एक युग का अंत। आपके विचारों, यादों और पार्टी के प्रति प्रतिबद्धता, लोगों और देश के प्रति समर्पण ..आपकी आत्मा को शांति मिले प्रणब दा।"

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, "भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख हुआ। राष्ट्र ने एक महान नेता, विचारक और राजनेता को खो दिया है। उनका पूरा जीवन राष्ट्र की सेवा के लिए समर्पित था। उनके परिवार, दोस्तों और समर्थकों के लिए मेरी हार्दिक संवेदनाएं। उनकी आत्मा को शांति मिले।"

प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के तेरहवें राष्ट्रपति रहे। प्रणब दादा का जन्म 11 दिसंबर 1935 को पश्चिम बंगाल के मिरिती गांव में हुआ था। उन्हें वर्ष 2019 में सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न, और 2008 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

Advertisement
Back to Top