जेल में ही रहेगी इंद्राणी मुखर्जी, CBI ने कोर्ट में कहा- नही है कोरोना का खतरा

CBI Oppose Indrani Mukerjea Bail Says No threat of coronavirus - Sakshi Samachar

मुंबई :  सीबीआई ने शुक्रवार को इंद्राणी मुखर्जी की अंतरिम जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि उनको स्वास्थ्य की ऐसी कोई समस्या नहीं है जिसके चलते जेल के अंदर उन्हें कोरोना वायरस से संक्रमण का खतरा हो। वह अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के मामले में आरोपी हैं। मुखर्जी अगस्त 2015 से ही बायकला जेल में बंद हैं। उन्होंने महामारी को देखते हुए अस्थायी तौर पर जमानत देने की मांग की थी।

 उनकी जमानत याचिका पर केंद्रीय जांच ब्यूरो ने कहा कि उनको स्वास्थ्य की कोई बड़ी समस्या नहीं है जिससे उनमें वायरस के संक्रमण का खतरा हो। सीबीआई ने यह भी कहा कि जेल के अधिकारी सभी कैदियों की उचित देखभाल कर रहे हैं। एजेंसी ने कहा कि अगर उन्हें रिहा किया गया तो वह उन गवाहों को प्रभावित कर सकती हैं जिनसे अभी जिरह नहीं हुई है। 

बेल की हकदार नहीं है इंद्राणी मुखर्जी : सीबीआई
सीबीआई ने कहा कि वह विदेशी नागरिक हैं और अस्थायी जमानत की हकदार नहीं हैं। इसने कहा कि अगर आरोपी को रिहा किया गया तो वह फरार हो सकती हैं। शीना (24) की अप्रैल 2012 में एक कार के अंदर कथित तौर पर गला दबाकर हत्या कर दी गई थी और मामला अगस्त 2015 में प्रकाश में आया था।

INX मीडिया की सीईओ हैं इंद्राणी मुखर्जी 
इंद्राणी मुखर्जी एक पूर्व मानव संसाधन सलाहकार और मीडिया कार्यकारी है। उसने दो शादी की है। इंद्राणी, पहले पति संजीव खन्ना 1993-2002 और दूसरे पति पीटर मुखर्जी 2002-2017 तक साथ रही। पीटर रिटायर्ड इंडियन टेलीविजन एक्जक्यूटिव हैं। वह 1997 से 2007 के बीच स्टार भारत के सीईओ भी रहे। उन्होंने 2007 में INX मीडिया की शुरुआत की थी। इसमें इंद्राणी ने सीईओ की भूमिका निभाई थी। 2009 में दोनों ने INX मीडिया से इस्तीफा दे दिया। इसके पहले इंद्राणी एचआर कंसल्टेंट और मीडिया एक्जक्यूटिव भी रह चुकी थी।

क्या है शीना बोना का मर्डर केस
इंद्राणी मुखर्जी और उनके प्रेमी सिद्धार्थ दास की बेटी शीना बोरा के मर्डर केस में वो जेल है। शीना बोरा मुंबई मेट्रो में काम करती थी, जो कि 24 अप्रैल 2012 से वह लापता थी। 23 मई 2012 को शीना बोरा का शव रायगढ़ जिले के एक जंगल में स्थानीय लोगों को मिला था। शव को हत्या के बाद जंगल में दफनाने की कोशिश की गई थी। ग्रामीणों की सूचना पर स्थानीय पुलिस ने शव को कब्र से बाहर निकाला और उसका पोस्टमार्टम करवाया, उसके बाद दोबारा दफना दिया। तब तक शव की पहचान नहीं हो पाई थी। 2015 में मुंबई में शीना बोरा की हत्या का मामला दर्ज होने पर शव की पहचान हो पाई थी। हालांकि, इंद्राणी उसे अपनी बहन बताती है।

Advertisement
Back to Top