जल्द ही नवीनतम तकनीक से लैस होगा सीमा सुरक्षा बल, पाक ड्रोनों से निपटने में मिलेगी मदद

BSF to be equipped with anti-radio frequency transmission system - Sakshi Samachar

एंटी-रेडियो फ्रीक्वेंसी ट्रांसमिशन सिस्टम विकसित 

ड्रोन के लिंक को तोड़कर खतरे को करेगा नियंत्रित

नई दिल्ली: भारत (India) का सीमा सुरक्षा बल बीएसएफ (BSF) जल्द ही एक नवीनतम तकनीक से लैस होगा। इसका इस्तेमाल पाकिस्तान (Pakistan) के संदिग्ध आतंकवादियों और पश्चिमी क्षेत्र में हथियारों और ड्रग्स की तस्करी से निपटने के लिए किया जाएगा।

'काउंटर ड्रोन सॉल्यूशंस' के बारे में निष्कर्ष परिणाम उस अवैध गतिविधि से छुटकारा पाने की प्रक्रिया के तहत हैं जिसके बारे में खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी थी कि यह आंतरिक और बाहरी सुरक्षा को नुकसान पहुंचा सकता है। मामले में प्रगति से जुड़े एक सूत्र ने आईएएनएस को बताया कि पाकिस्तान में बैठे हैंडलर्स द्वारा उड़ाए गए ड्रोन के लिंक को तोड़कर खतरे को नियंत्रित करने के लिए सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की मदद के लिए एक एंटी-रेडियो फ्रीक्वेंसी (आरएफ) ट्रांसमिशन सिस्टम विकसित किया जा रहा है।

लाइव ट्रायल शुरू
सूत्र ने नाम जाहिर नहीं करने का अनुरोध करते हुए बताया, "लाइव ट्रायल शुरू कर दिया गया है और दूसरा पायलट रन बस अभी खत्म हुआ है। हम अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में हैं, जिसे हम जल्द ही गृह मंत्रालय को सौंपेंगे। सॉल्यूशन टेस्टिंग से लेकर ड्रोन डिटेक्शन और टारगेट सिस्टम तक, सभी पहलुओं को कवर किया जा रहा है।

फ्रीक्वेंसी को कैप्चर करेगा
सिस्टम को समझाते हुए, एक अन्य सूत्र ने कहा, "ड्रोन को दूर से नियंत्रित करने के लिए, आपको इसे वायरलेसली कम्युनिकेट करना होगा। रेडियो फ्रीक्वेंसी तरंग इन ड्रोनों को दूर से नियंत्रित करने के लिए इलेक्ट्रोमैग्नेटिक स्पेक्ट्रम पर एक अवश्य तरंग रूप है। रेडियो फ्रीक्वेंसी को ब्रेक करने के लिए एक सिस्टम विकसित की जा रही है। सूत्र ने कहा कि 'रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन' सिस्टम फ्रीक्वेंसी को कैप्चर करने में मदद करेगा और इसे यहां से कंट्रोल करेगा या दूसरी तरफ से इसका कनेक्शन तोड़ देगा।

ड्रोन तकनीक में अपार संभावनाएं
गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि ड्रोन तकनीक में अपार संभावनाएं हैं और नीति आयोग के अनुसार अगले 15 वर्षों में इस सेक्टर के 50 अरब डॉलर तक पहुंचने की संभावना है। उन्होंने कहा, "चूंकि भारत में हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी के लिए तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है, इसलिए आंतरिक सुरक्षा और अन्य पहलुओं को देखते हुए जल्द समाधान निकालना समय की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: जल्द आने वाली है सुपर हैवी फ्लाइट्स, अंतरिक्ष अभियानों में स्टारशिप उड़ाने के लिए होगा प्रयोग

हाल के दिनों में आतंकवादियों और उनके हैंडलर्स द्वारा भारतीय सीमा के हिस्से वाले अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर हथियारों आदि को गिराने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल खूब किया जा रहा है। गृह मंत्रालय के मार्गदर्शन में बीएसएफ अब इस खतरे का स्थायी समाधान खोजने की कोशिश कर रहा है।

Advertisement
Back to Top