कोरोना से बचाव के लिए पुलिस ने अपनाया देसी जुगाड़, तैयार किया खास PPE सूट

 Bihar Police Prepare Special PPE Suit To Prevent From Coronavirus - Sakshi Samachar

बिहार पुलिस ने तैयार किया खास किस्म का पीपीई सूट

मंत्री संजय झा ने ट्वीट कर दी जानकारी 

पटना : पूरा देश इन दिनों कोरोना वायरस के आतंक से थर्रा रहा है। सरकारें लोगों से घरो में रहने की अपील कर रही हैं। वहीं हेल्थ वर्कर्स के लिए कोरोना वायरस से बचने के लिए बड़े पैमाने पर सुरक्षा उपकरणों की जरूरत है। हालांकि मास्क से लेकर जरूरत की सारी चीजें सरकार मुहैया कराने की भरपूर कोशिश कर रही है।  लेकिन जिस तेजी से यह बीमारी देश भर अपना पांव पसार रहा है उसके मुकाबले बिहार में जरूरी उपकरणों की कमी है। खास तौर पर स्वास्थ्यकर्मियों के लिए। जो डॉक्टर, नर्स और अन्य स्टाफ अस्पतालों में जरूरी सेवा में लगे हैं, जब वे कोरोना वायरस से सुरक्षित रहेंगे, तो वह संक्रमित मरीजों सहित अन्य का इलाज कर सकेंगे। ऐसे में बिहार पुलिस ने जुगाड़ से पीपीई किट तैयार की है। 

मंत्री संजय झा ने ट्वीट कर दी जानकारी
बिहार सरकार के वाटर रिसोर्स मिनिस्टर संजय कुमार झा ने ट्विट करते हुए पुलिस के बनाए इस पीपीई सूट की तस्वीरें शेयर की है। ऐसे में बिहार पुलिस ने स्थानीय स्तर पर उपलब्ध संसाधनों का इस्तेमाल करते हुए देसी जुगाड़ से पीपीई सूट तैयार किया है। यह पीपीई सूट देखने में रेनकोट जैसा दिख रहा है। इसे पहनने से कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बहुत हद तक कम जाता है। 

संजय झा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर मैथिली भाषा में लिखा है दरिभंगा आर किशनगंज मं जिला पुलिस सहज भेंटाए वाला समान सं एहन #PPESuit बनेला हन, जाहि सं हिनकर #कोरोना_वायरस केर संक्रमण सं सुरक्षा सुनिश्चित होएत। सरकार सब बेबस्था मं लागल अछि। अहाँ सब घर मं रहू, एतबे अनुरोध! 

इसे भी पढे़ं :

सीवान के एक ही परिवार में 9 पॉजिटिव, 51 पहुंची कोरोना मरीजों की संख्या

कोरोना मरीजों को नहीं होगी सांस लेने में दिक्कत, खास स्वदेशी डिवाइस तैयार

पीपीई की उपलब्धता को लेकर भयभीत होने की जरूरत नहीं : स्वास्थ्य मंत्रालय 
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना संकट से निपटने के लिये चिकित्सा कर्मियों के निजी सुरक्षा उपकरणों (पीपीई) सहित अन्य संसाधन पर्याप्त संख्या में उपलब्ध होने का भरोसा जताते हुये बृहस्पतिवार को कहा कि पीपीई की उपलब्धता को लेकर भयभीत होने की जरूरत नहीं है।   स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) की कमी की आशंकाओं को खारिज करते हुये कहा कि भारत में 20 कंपनियां पीपीई का निर्माण कर रही हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिये 1.7 करोड़ रुपये की कीमत के पीपीई की खरीद के आर्डर दिये जा चुके हैं।

राज्य में 51 कोरोना के मामले
स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, अब तक बिहार के 11 जिलों में कोरोना के मरीज मिले हैं। इनमें सबसे अधिक सीवान में 20, पटना में 5, मुंगेर में 7, नालंदा में 2, गया में 5, गोपालगंज में 3, बेगूसराय में 5, लखीसराय, सारण, नवादा और भागलपुर में एक-एक समेत कुल 51 कोरोना के मरीज मिलें हैं। बता दें  कि बुधवार तक बिहार में 4596 नमूनों की जांच की गई।

Advertisement
Back to Top