Covid-19 से लड़ने में कामयाब हो सकता है राजस्थान का भीलवाड़ा मॉडल

 Bhilwara Model Should Adopt To Contorl Coronavirus - Sakshi Samachar

 भीलवाड़ा में डॉक्टर के संक्रमित होने के बाद तेजी से बढ़ी थी मरीजों की संख्या 

 भीलवाड़ा में घर जा चुके हैं 27 में 20 कोरोना के मरीज

 प्रशासन ने जिले में सख्ती से कराया लॉकडाउन का पालन

जयपुर : राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में पिछले महीने कोरोना ने दस्तक दी थी। यहां एक के बाद एक मामला सामने आने के बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया था। ऐसा लग रहा था मानों यह देश का यह जिला इटली बनने जा रहा है।एक निजी अस्पताल में एक डॉक्टर के कोविड 19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद उस अस्पताल के कई स्वास्थ्यकर्मी भी पॉजिटिव पाए गए थे।  यह सोचकर ही लोगों में दहशत फैल गई कि बांगड़ अस्पताल में डॉक्टर से इलाके में ना जाने कितने लोग कोरोना संक्रमित हुए होंगे।

हलांकि सरकार ने  समय रहते ही इस महामारी के खिलाफ सरकार एहतियाती कदम उठा लिए। महामारी पूरे शहर में ना फैले इसलिए सबसे पहले कर्फ्यू लगा दिया गया और सारे बॉर्डर सील कर दिये गए। यही नहीं लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराया गया। इसके बाद कोरोना से शहर को मुक्त कराने के लिए हर घर की स्क्रीनिंग शूरु कराई गई। 15 हजार से अधिक मेडिकल स्टाफ की टीम लगाई गई।

करीब 18 लाख लोगों की स्क्रीनिंग कराई गई। सरकार की ओर से शहर के सभी स्कूल, रिजॉर्ट, प्राइवेट हॉस्पीटल और होटल को अधिगृहित कर लिया। जिन लोगों में जुकाम के भी लक्षण दिखे उन सभी को क्वारंटाइन कर लिया गया। फिलहाल भीलवाड़ा के 27 में से 20 मरीज पूरी तरह ठीक होकर घर जा चुके हैं।

इसे भी पढ़ें 
भारत के इस शहर में हैं सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव, खौफ से घरों में नहीं सो पा रहे लोग

रविवार को राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कैबिनेट सचिव राजीव गौबा के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी. इसमें कैबिनेट सचिव गौबा ने कोरोना से बचाव के लिए भीलवाड़ा में किए गए उपायों की तारीफ करते हुए इस मॉडल को देशभर में लागू करने के संकेत दिए है।

Advertisement
Back to Top