भारत बायोटेक का ऐलान, कोवैक्सीन के गंभीर साइड इफेक्ट हुए तो देंगे मुआवजा

 Bharat Biotech Reaction On Covaxine Side Effacts - Sakshi Samachar

नई दिल्ली :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शनिवार को देशभर में कोरोना महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन (Vaccination) अभियान को लॉन्च किया। इस दौरान देश भर के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 3006 सेशन साइट्स लॉन्च प्रोग्राम से वर्चुअल तरीके से जुड़े। पहले दिन भारत में हर सेशन साइट पर लगभग 100 लोगों को वैक्सीन (Corona Vaccine) दी जाएगी। वैक्सीनेशन के पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाना है।

इसी बीच केंद्र सरकार भारत बायोटेक (Bharat Biotech) को कोविड-19 वैक्सीन (Corona Vaccine) कोवैक्सीन (Covaxine)  के 55 लाख डोज खरीदने का ऑर्डर दे चुकी है। भारत बायोटेक का कहना है कि वैक्सीन लगाए जाने वाले व्यक्ति में अगर कोई घातक साइड इफेक्ट (Side Effacts) दिखाई पड़ता है तो कंपनी उसे मुआवजा देगी। दरअसल, भारत में कोरोना के खात्मे के लिए शनिवार से दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान शुरू हुआ है।

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य स्वास्थ्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया है कि साढ़े तीन बजे तक प्रदेश में 13 हजार, 419 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीनेट किया जा चुका था। कहीं से भी किसी गंभीर घटना की सूचना नहीं मिली है। सभी लोगों ने बहुत ही सकारात्मक फीडबैक दिया है।

हरियाणा के गुरुग्राम में कोरोना वैक्सीन का पहला डोज 47 वर्षीय सफाई कर्मचारी राधा चौधरी को दिया गया। देश को डिजिटल रूप से संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत बहुत कम समय में टीके बनाने में कामयाब रहा, जिसमें आमतौर पर वर्षों लगते हैं।

इसे भी पढ़ें:

भाषण देते हुए भावुक हो गए थे पीएम मोदी, कहा- कोरोना ने अपनों को अपनों से दूर किया

कोरोना के टीके की मंजूरी की प्रक्रिया पर कांग्रेस पार्टी के मनीष तिवारी ने खड़े किए सवाल

पीएम मोदी ने वैक्सीन अनुसंधान और प्रक्रिया में शामिल वैज्ञानिकों के प्रयासों का भी स्वागत किया, उन्होंने कहा कि वे इन टीकों को बनाने के लिए विशेष प्रशंसा के पात्र हैं और टीके की मदद से भारत सबसे घातक वायरस के खिलाफ जीत का प्रतीक होगा। 

Advertisement
Back to Top