कोरोना आयुर्वेद किट को लेकर यूपी आयुष सोसायटी का बड़ा बयान

UP Ayush Society approves Corona Kit for Covid 19 patients - Sakshi Samachar

आयुर्वेद के चार तत्व बीमारी में कारगर 

यूपी आयुष विभाग का बड़ा बयान 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राज्य आयुष सोसायटी कोरोना वायरस महामारी के लड़ने के लिए चार आयुर्वेदिक दवाओं की किट बांट रही है। जिसके बारे में सोसायटी ने आधिकारिक बयान भी जारी किया है। बयान के मुताबिक कोरोना मरीजों के साथ ही लक्षण वाले गैर कोरोना पीड़ितों या फिर गैर लक्षण वाले एसिम्पटमैटिक कोरोना मरीजों के लिए आयुर्वेदिक किट कारगर है। 

आयुर्वेद के ये चार तत्व बीमारी में कारगर 

केंद्रीय आयुष मंत्रालय के निर्देश पर यूपी आयुष सोसायटी कोरोना किट का बना कर बंटवा रही है। सोसायटी का दावा है कि इससे लोगों में रोग-प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है। उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों में लोगों को ये किट मुहैया कराई जा रही है। अधिकारियों का दावा है कि पॉजिटिव मरीजों को किट की दवाएं सेवन के सात दिनों बाद ही राहत मिली और उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ गई। 

आयुर्वेद किट में चार दवाएं 

मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार, ये दवाएं गले की खरास और सांस लेने की समस्याओं को ठीक करती हैं। इस किट में आयूष-64 टैबलेट, संशमनी वटी, अनू तेल और अगस्त्य हरितकी शामिल हैं। आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. निरंकार गोयल ने कहा कि आयूष -64 और संशमनी वटी सभी प्रकार के बुखार को ठीक कर सकते हैं।

संशमनी वटी वायरस के संक्रमण के लिए प्रभावी उपाय है। अनु तेल के एक बूंद को दोनों नासिका छिद्रों में डालने से बंद नाक खुल जाती है, गले का संक्रमण और आंखों की समस्या ठीक हो जाती है। अगस्त्य हरितिकी अवलेह सांस लेने की समस्याओं, टीबी, अस्थमा और बुखार को ठीक करता है। दवाओं का पहले ही परीक्षण किया जा चुका है। डॉक्टर के मार्गदर्शन के अनुसार, उन्हें सात दिनों के लिए लिया जाना चाहिए।

Advertisement
Back to Top