कोरोना से दो-दो हाथ करने की है सेना की तैयारी, ऐक्शन में हैं तीनों सेनाएं

All three Army brigade is ready to battle with Corona - Sakshi Samachar

कोरोना से दो-दो हाथ करने को सेना तैयार 

9000 से ज्यादा बेड करवाए उपलब्ध

तैयार स्थिति में नौसेना के जहाज

नई दिल्ली : तबलीगी जमात के मौलाना साद की बेवकूफियों ने पिछले दो-तीन दिनों में भारत में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी कर दी है। इसके बाद से ही कोरोना की वजह से देश में होने वाली मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। इसके बावजूद हालात पर काबू पाने की पूरी कोशिश की जा रही है और लोगों को 'लॉकडाउन' का पालन करने की सलाह दोहराई जा रही है। उन्हें बताया जा रहा है कि इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए यही एकमात्र उपाय है। इस बीच सरकार आगे की तैयारी में जुट गई है। अगर स्थिति और बिगड़ती है तो सेना की मदद भी ली जा सकती है।

कोरोना से दो-दो हाथ करने को सेना तैयार 
तीनों सेनाओं को इसके लिए आगाह कर दिया गया है और उन्हें अपने स्तर पर तैयार रहने को कहा गया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनों सेनाओं के प्रमुख से बातचीत भी कर ली है। दरअसल, राजनाथ सिंह ने कोविड-19 से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों की समीक्षा की। उन्होंने सेना की ओर से अभी तक उठाए गए कदमों की भी सराहना की। बता दें कि अब तक सेना की ओर से सैनिटाइजर, फेस मास्क, थर्मल गन जैसे कोरोना वायरस से लड़ने के लिए उपकरण तैयार किए जा रहे हैं। इसके अलावा सेना की खाली जगह को क्वारंटीन के लिए भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : 'कोरोना से जंग' में जीत का डिगने न दें आत्मविश्वास, क्योंकि सेना है अब आपके साथ​

9000 से ज्यादा बेड करवाए उपलब्ध
रक्षा प्रमुख अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने राजनाथ सिंह को बताया कि कोविड-19 से लड़ने के लिए बड़े पैमाने पर अलग से अस्पताल चिन्हित किए गए हैं और अस्पतालों में  9000 से ज्यादा बेड उपलब्ध करवाए गए हैं। जैसलमेर, जोधपुर, चेन्नई, मानेसर, हिंडन और मुंबई में 1000 से ज्यादा लोगों को क्वारंटीन किया गया है। उनकी क्वारंटीन की अवधि 7 अप्रैल 2020 तक है। वहीं, डीआरडीओ भी अपने वेंटिलेटर में कुछ सुधार करने के कार्य में लगा हुआ है ताकि एक ही मशीन एक साथ चार मरीजों को संभाल सके। राष्ट्रीय कैडेट कोर एनसीसी के लगभग 25,000 कैडेट्स को आवश्यक स्थानीय सहायता प्रदान करने के लिए तैयार किया जा रहा है।
 

तैयार स्थिति में नौसेना के जहाज
रक्षा मंत्री के मुताबिक किसी भी प्रकार की आवश्यक सहायता करने के लिए नौसेना अध्यक्ष एडमिरल कर्मबीर सिंह ने नौसेना के जहाज तैयार स्थिति में रखे हुए हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल नौसेना स्थानीय सिविल प्रशासन को आवश्यक सहायता प्रदान कर रही है। वायुसेना के अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया ने बताया कि पिछले पांच दिनों में देश के अंदर लगभग 25 टन मेडिकल आपूर्ति करने के लिए वायुसेना के जहाजों ने कई उड़ानें भी भरी हैं। थलसेना अध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे ने रक्षा मंत्री को बताया कि आवश्यकता पड़ने पर सिविल प्रशासन को 8500 से ज्यादा डॉक्टर और सहायक स्टाफ प्रदान कराए जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें : खत्म करें कोरोना के संकट का अंधकार, 5 अप्रैल को रात नौ बजे जलाएं दीया : पीएम मोदी

जरूरत पड़ी तो देंगे नेपाल का भी साथ 
राजनाथ सिंह के पड़ोसी देशों को सहायता प्रदान करने के निर्देश की ओर संकेत करते हुए भी उन्होंने कहा कि आवश्यकता पड़ने पर नेपाल को मेडिकल उपकरणों की सहायता जल्द प्रदान की जा सकती है। रक्षा आर एंड डी विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ सतीश रेड्डी ने रक्षा मंत्री को बताया कि दिल्ली पुलिस सहित सुरक्षा संस्थानों को डीआरडीओ की प्रयोगशालाओं में निर्मित 50000 लीटर से ज्यादा सैनिटाइजर की आपूर्ति की गई है। इसके अलावा एक लाख लीटर से ज्यादा सैनिटाइजर की आपूर्ति पूरे देश में भी की गई है।

हर रोज़ बनाए 20,000 फेस मास्क
यही नहीं, वार फुटिंग में पांच लेयर वाला नैनो तकनीक से बना फेस मास्क एन99 भी तैयार किया जा रहा है। अब तक एक हजार तैयार किए जा चुके हैं। शीघ्र ही प्रतिदिन के हिसाब से 20,000 फेस मास्क बनाए जाएंगे। डीआरडीओ की प्रयोगशालाओं ने दिल्ली पुलिस को इनके अतिरिक्त 40,000 फेस मास्क की आपूर्ति भी की गई है।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन में कुछ ऐसी है इन घरों की कहानी, कुछ कहा न जाए और रहा भी न जाए

Advertisement
Back to Top