विकास दुबे और उसके 'खजांची' के बीच हुआ 75 करोड़ का लेनदेन, IPL के सट्टे में लगाए 5 करोड़

75 crore Transaction Between Gangster Vikas Dubey And his Treasurer - Sakshi Samachar

कभी 6 हजार रुपए की नौकरी करता था जय बाजपेई

6 बैंक खातों से हुई विकास और जय के बीच 75 करोड़ की लेनदेन

IPL के सट्टे में जय ने  लगाए विकास दुबे के 5 करोड़

कानपुर : बिकरू कांड के बाद पुलिस ने विकास दुबे के खजांची जय बाजपेई से पुलिस पूछताछ में जुटी है। इस पूछताछ में बाजपेई ने पुलिस के सामने कई राज उगले हैं जो काफी चौंकाने वाले हैं। पुलिस अब जय बाजपेई से मिली जानकारियों को ईडी( प्रवर्तन निदेशालय) भेजने की तैयारी कर रही है।

अलग- अलग धंधों में लगाता पैसे

पूछताछ के दौरान  जय बाजपेई ने पुलिस को जानकारी दी है कि वह विकास की ब्लैक मनी को अलग- अलग बिजनेस में इन्वेस्ट करता था। इससे मुनाफे में मिली एक मोटी रकम वे हर महीने विकास को देता था।  जय ने जो रकम विकास से ली, कुछ ब्याज पर दे दिया। कुछ प्रापर्टी में लगाई। इसके अलावा  विकास का पैसा एक डॉक्टर ने भी अपने अस्पताल में लगा रखा है। कल्याणपुर निवासी डॉक्टर हर महीने विकास को पांच से सात लाख रुपये पहुंचाता था। पुलिस और एसटीएफ ने उससे भी पूछताछ की है। करोड़ों रुपये का उनका भी लेनदेन मिला है। साक्ष्य मिलने पर डॉक्टर पर भी कार्रवाई हो सकती है। फिलहाल पुलिस जय के खातों का पिछले चार साल का  लेखा जोखा खंगालने में जुटी हुई है। 

एक साल में जय और विकास के बीच करीब 75 करोड़ रूपए का हुआ लेन देन
रिपोर्ट्स में  पुलिस सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि  जय बाजपेई और विकास दुबे के बीच 6 बैंक खातों के जरिए से एक साल के भीतर करीब 75 करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ। यह खुलासा पुलिस की जांच में हुआ है। इतने बड़े लेनदेन की सूचना के बाद पुलिस भी हैरान है। इसके अलावा करोड़ो का लेनदेन ऐसे भी हुआ जिसका कोई लेखाजोखा नहीं है।

जांच एजेंसियों ने भी कसा  शिकंजा
पुलिस के बाद अन्य जांच एजेंसियां भी  जय बाजपेई  पर शिकंजा कसना शुरू कर चुकी है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की  बेनामी विंग उसकी 9 संपत्तियों की जांच करेगी. जय बाजपेई के खिलाफ ईडी ( प्रवर्तन निदेशालय) भी अपनी जांच शुरू कर चुका है। बेनामी विंग जय के ब्रह्मनगर में 6 मकान, आर्यनगर में 2 मकान और पनकी में 1 मकान की खरीद-फरोख्त का ब्यौरा जांचेगा।

आईपीएल मैच में लगाए थे पांच करोड़ रुपए
जांच में खुलासा हुआ कि जय बाजपेई बीसी चलाने के साथ-साथ विकास की काफी रकम सट्टे में भी लगाता था। आईपीएल मैच में करीब पांच करोड़ रुपये जय ने सट्टे में लगाए थे। वह सट्टा ऑन लाइन खेलता था। कई ऐसे साक्ष्य मिले हैं कि सट्टे में विदेशी भी शामिल रहते थे। 

कभी दुकान पर 6 हजार रुपए की नौकरी करता था जय
रिपोर्ट्स के मुताबिक जय बाजपेई कभी कानपुर के एक दुकान में 6 हजार रुपए  महीने की नौकरी करता था। लेकिन विकास के संपर्क में आते ही वह उसका करीबी बन बैठा, उसने विकास के पैसे को कई अवैध कार्यों में लगाकर बेशुमार दौलत कमाई। यही नहीं जय के कानपुर के कई पॉश इलाकों में 15 से अधिक घर हैं। अब पुलिस जय की पूरी कुंडली खंगालने में लगी हुई है। 

Advertisement
Back to Top