PM मोदी के संसदीय क्षेत्र में 28 मेडिकल अफसरों ने दिया इस्तीफा, प्रशासन में मचा हड़कंप

28 Medical Officer  Resign in PM Modi s Parliamentary Constituency Varansi - Sakshi Samachar

वाराणसी :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में एक साथ  28 मेडिकल अफसरों ने इस्तीफा दे दिया है। सभी मेडिकल अफसर सामुदायि‍क स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र (सीएचसी) और प्राथमि‍क स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र (पीएचसी) के प्रभारी हैं। मेडिकल अफसरों ने अधिकारियों पर मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए सीएमओ डॉक्टर वीबी सिंह को इस्तीफा सौंपा।इतनी बड़ी संख्या में इस्तीफे की खबर मिलते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। मेडिकल अफसरों को मनाने की कोशिशें हो रही हैं। 

क्यों दिया इस्तीफा
वाराणसी के 28 मेडकिल अफसरों का आरोप है कि उन्हें प्रताड़ित किया जिसकी वजह से उन्होंने इस्तीफा दिया है। इन सभी 28 अधिकारियो ने अपने सामूहिक इस्तीफे में लिखा है कि 9 अगस्त को सहायक नोडल ऑफिसर/डि‍प्‍टी कलेक्‍टर ने प्रभारी चिकित्साधिकारियों को नोटिस जारी करते हुए कोविड-19 के दौरान किये गए कार्यों को अपर्याप्त बताया है। यह नोटिस भेजकर हम सभी प्रभारियों पर अनावश्यक दबाव बनाया जा रहा है। टारगेट पूरा न होने पर आपराधिक कृत करार देना और केस फाइल करने की धमकी दी जा रही है। इतने मानसिक दबाव में कैसे कार्य किया जा सकता है।

 सीएमओ जंगबहादुर की मृत्यु
 इससे पहले कोरोना योद्धा और जिले के एडिशनल सीएमओ डॉ. जंगबहादुर की मंगलवार देर रात बीएचयू के कोविड हॉस्पिटल में मृत्यु हो गयी। डॉ. जंगबहादुर को कोरोना पॉज़िटिव आने पर गैलेक्सी हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था। जहां दो दिन पहले लिया गया उनका सैम्पल निगेटिव आया था। लेकिन दोबारा की गयी जांच में देर रात उनकी रिपोर्ट पॉज़िटिव आयी और उन्हें गंभीर अवस्था में गैलेक्सी से बीएचयू में आईसीयू में शिफ्ट किया गया था, जहां उनकी मौत हो गयी।

प्रशासन है सीएमओ की मृत्यु का जिम्मेवार
मेडिकल अफसरों ने इस पत्र में एसीएमओ जंगबहादुर की मौत के लि‍ये भी प्रशासन को जि‍म्‍मेदार ठहराया है। आरोप लगाया कि प्रशासन की ओर से एसीएमओ को बर्खास्‍त करने की धमकी दी गई थी। शायद इसी के सदमे से एडिशनल सीएमओ की मौत हुई है। चि‍कि‍त्‍साधि‍कारि‍यों ने अपने पत्र में सवाल उठाया है कि इस मौत की ज़िम्मेदारी आखिर कौन लेगा। सामूहिक इस्तीफे से वाराणसी से लेकर लखनऊ तक हड़कंप मचा हुआ है।

Advertisement
Back to Top