मौलाना साद से फिर पूछे गए 26 सवाल, खाड़ी देशों से मरकज़ की फंडिंग का शक

26 questions asked from Maulana Saad again, doubt of Markaz's funding from Gulf countries - Sakshi Samachar

मौलाना साद को भेजा दूसरा नोटिस

पहले नोटिस पर नहीं दिया था जवाब

नई दिल्ली : कोरोना संक्रमण का बड़ा केंद्र बन चुके निजामुद्दीन मरकज से निकले जमातियों के बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित पाए जाने से पूरा देश आक्रोशित है। इस बड़ी लापरवाही के लिये मरकज के संचालक मौलाना साद के खिलाफ केस भी दर्ज कर लिया गया है, लेकिन वह अब तक फरार है। इस बीच क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद को दूसरा नोटिस भेज दिया है।

सेल्फ क्वारंटीन में है मौलाना साद
मौलाना साद ने बताया है कि वो सेल्फ क्वारंटीन में है जिसके बाद दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नोटिस भेजकर उससे 26 सवालों के जवाब मांगे, लेकिन मौलाना ने किसी भी सवाल का जवाब नहीं दिया। मौलाना साद ने कहा है कि वो सेल्फ क्वारंटीन में है और मरकज अभी बंद है, लिहाजा किसी भी सवाल का जवाब फिलहाल नहीं दे सकता। जब मरकज खुलेगा तब बाकी सवालों के जवाब दिए जाएंगे। मौलाना साद के इस रुख से जांच टीम संतुष्ट नहीं है और टीम ने उसे दूसरा नोटिस भेज दिया है।

यह भी पढ़ें : मौलाना साद को अब तक क्यों नहीं पकड़ पाई दिल्ली पुलिस, जनता ने पूछे पांच सवाल​

मरकज में जांच-पड़ताल शुरू 
इस बीच क्राइम ब्रांच की टीम ने मरकज में जांच-पड़ताल भी शुरू कर दी है। क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि मरकज में अंदर कोई सीसीटीवी नहीं मिला है। मरकज से जुड़े लोग भी गोल-मटोल जवाब दे रहे हैं। क्राइम ब्रांच को मरकज से कुछ दस्तावेज मिले हैं, जिनकी जांच की जा रही है। फॉरेंसिक टीम ने भी मरकज जाकर तफ्तीश की है, लेकिन टीम को वहां कोई इलैक्ट्रॉनिक डिवाइस नहीं मिली है।

खाड़ी देशों से होती है मरकज़ की फंडिंग
हालाँकि सूत्रों की मानें तो मरकज की फंडिंग को लेकर भी एजेंसी जांच कर रही है। दरअसल, जानकारी मिली है कि मरकज में खाड़ी देशों से बड़ी मात्रा में फंड मिलता है, इसलिए भी मरकज़ पर नज़र कड़ी कर दी गयी है और वह अब जांच के दायरे में है। 

यह भी पढ़ें : फ़र्ज़ से बड़ा हो गया धर्म, दिल्ली पुलिस के जवान ने जमातियों को पार कराया यूपी बॉर्डर​

Advertisement
Back to Top