सोनिया गांधी का पीएम मोदी पर हमला, कहा- सबसे मुश्किल समय से गुजर रहा है देश का लोकतंत्र

Sonia Gandhi Attacks Modi Govt Over Democracy  - Sakshi Samachar

अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया

प्रजातंत्र सबसे कठिन दौर से गुजर रहा

 

नई दिल्ली :  कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को पार्टी के नेताओं को जनता के मुद्दों के लिए संघर्ष करने को कहा। साथ ही, उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि लोकतंत्र सबसे मुश्किल समय से गुजर रहा है। सोनिया गांधी ने अपनी अध्यक्षता में हुई अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिवों और प्रदेश प्रभारियों की एक बैठक में पार्टी के नेताओं से यह अपील की।

प्रजातंत्र सबसे कठिन दौर से गुजर रहा

पदाधिकारियों को लिखे पत्र के बहाने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि आप सब साथियो को जो दायित्व दिया गया है, उसका महत्व इसलिए भी अधिक है क्योंकि आज देश का प्रजातंत्र सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है। देश में ऐसी सरकार काबिज हो गई है, जो देश के नागरिकों के हकों को मुट्ठीभर पूंजीपतियों के हाथों में सौंप देना चाहती है। इस सरकार ने करोड़ों किसानों के खिलाफ तीन काले कानून लाकर खेती पर हमला बोला है। 

अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया

सोनिया गांधी ने कहा कि भाजपा सरकार ने देश के नागरिकों की मेहनत और कांग्रेस सरकारों की दूर दृष्टि से बनाई गई मजबूत अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया है। जिस प्रकार से अर्थव्यवस्था औंधे मुंह गिरी है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। आज युवाओं के पास रोजगार नहीं है। 14 करोड़ के करीब रोजगार खत्म हो गए हैं। छोटे-छोटे कारोबारियों, दुकानदारों और असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूर भाइयों की रोजी-रोटी खत्म हो रही है, पर मौजूदा सरकार को कोई परवाह नहीं अब तो भारत सरकार अपनी संवैधानिक ज़िम्मेदारी से भी पीछे हट गई है। 

बैठक के बारे में ट्वीट कर जानकारी देते हुए पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, 'सोनिया जी ने हर किसी से जनता के मुद्दों के लिए संघर्ष करने और उनकी दशा बेहतर करने की अपील की है, क्योंकि हमारा लोकतंत्र सबसे मुश्किल दौर से गुजर रहा है।'

यह बैठक खासा मायने रखती है क्योंकि यह बिहार विधानसभा चुनाव से पहले हुई है। साथ ही, मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों (पर उपचुनाव) सहित विभिन्न राज्यों में होने जा रहे उपचुनावों से पहले हुई है।

कांग्रेस नए कृषि कानूनों को केंद्र द्वारा पारित कराए जाने का मुद्दा, उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक दलित लड़की से कथित सामूहिक बलात्कार एवं उसकी मौत का मामला, उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति और देश में अर्थव्यवस्था की स्थिति से जुड़े मुद्दे जोर-शोर से उठा रही है। पार्टी नए कृषि कानूनों के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन भी कर रही है। 

Advertisement
Back to Top