SC का आदेश- शुक्रवार शाम 5 बजे तक बहुमत साबित करें कमलनाथ

SC Orders Kamal Nath Govt to Face Trust Vote Friday  - Sakshi Samachar

शुक्रवार शाम 5 बजे होगी कमलनाथ सरकार की अग्निपरीक्षा

सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट की वीडियोग्राफी भी कराने के निर्देश दिए

शिवराज सिंह चौहान ने खटखटाया था सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश में मचे सियासी घमासान के बीच गुरुवार को बड़ा फैसला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को शाम पांच बजे तक फ्लोर टेस्ट कराने का स्पीकर को निर्देश दिया है। फ्लोर टेस्ट सदन में हाथ उठाकर होगा। यानी विधायक हाथ उठाकर अपना मत देंगे।
सुप्रीम कोर्ट ने दिया विशेष सत्र बुलाने का निर्देश
सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट के लिए 20 मार्च को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का निर्देश दिया है। इस प्रकार कमलनाथ सरकार को अब हर हाल में बहुमत साबित करना होगा। अगर कमलनाथ बहुमत साबित नहीं कर पाए तो सरकार गिर जाएगी।सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट की वीडियोग्राफी भी कराने के निर्देश दिए हैं। यह फैसला इसलिए भी अहम है क्योंकि मध्य प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष ने विधानसभा सत्र को 26 मार्च तक कोरोनावायरस के खतरे की बात कहते हुए स्थगित कर दिया था। इसके बाद मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

इसे भी पढ़ें
बहुमत परीक्षण को लेकर आज भी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

बागी विधायको को मिले सुरक्षा : कोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने मध्य प्रदेश और कर्नाटक के पुलिस प्रमुखों को निर्देश दिया कि कांग्रेस के 16 बागी विधायक अगर विधानसभा में शक्ति परीक्षण में शामिल होना चाहते हैं तो उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाए।

फ्लोर टेस्ट का आदेश नहीं दे सकते राज्यपाल-सिब्बल
सीएम कमलनाथ की ओर से पेश हो रहे वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि राज्यपाल के पास ये मत देने के लिए कोई आधार नहीं है कि सरकार बहुमत खो चुकी है। उन्होंने कहा कि अगर सदन स्थगित अवस्था में हो तो राज्यपाल विशेष सत्र बुला सकते हैं लेकिन जब सत्र चल रहा है तो वे फ्लोर टेस्ट का आदेश नहीं दे सकते हैं।

Advertisement
Back to Top