कांग्रेस में वापसी के लिए सचिन पायलट ने रखी ये शर्त, क्या जाएगी गहलोत की कुर्सी ?

Sachin Pilot Puts Condition to Return into Congress party, Is it creates for MC Ashok Gehlot - Sakshi Samachar

पार्टी इन दो फॉर्मूलों से तलाश रही पायलट की वापसी का रास्ता

हाईकमान ने सचिन पायलट को दिया भरोसा

इन 3 वजहों अंतिम पड़ाव पर पहुंचा सुलह  

जयपुर : राजस्थान विधानसभा के प्रस्तावित सत्र से कुछ दिनों पहले तेज हुई सियासी हलचल की पृष्ठभूमि में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने सोमवार को बैठक की। यह मीटिंग करीब डेढ़ घंटे तक चली।  राहुल गांधी के आवास पर कांग्रेस के दोनों नेताओं ने बैठक की। इस मुलाकात के बाद ऐसी खबरे हैं, पायलट एक बार फिर से कांग्रेस में वापसी हो सकती है। माना जा रहा है कि दोनों पक्षों के बीच हुई सुलह अंतिम पड़ाव पर पहुंच चुकी है और विधानसभा सत्र से पहले पायलट की घर वापसी हो सकती है।   

हाईकमान ने पायलट को दिया भरोसा
मीडिया रिपोर्ट्स में  सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि पार्टी हाईकमान ने सचिन पायलट को भरोसा दिया है कि उनकी सभी समस्याएं दूर की जाएंगी। बता दें कि 14 अगस्त से ही राजस्थान में विधानसभा का सत्र शुरू होने वाला है, उससे पहले सचिन पायलट गुट ने सत्र में शामिल होने के संकेत दे दिए थे। अब प्रियंका और राहुल गांधी से मुलाकात के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि सचिन पायलट अपनी नाराजगी भूलकर पार्टी में वापस आएंगे। 

राहुल के सामने पायलट ने रखी यह शर्तें
 सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि सचिन पायलट ने राहुल के सामने तीन शर्ते रखी हैं। पहली शर्त ये है कि उन्होंने नेतृत्व बदलने और 2023 के चुनाव को लेकर स्पष्ट सन्देश देने की मांग रखी है। इसके अलावा उनकी यह भी मांग है कि उनके खेमें के दो विधायकों को डिप्टी सीएम बनाया जाय। 

पार्टी तलाश रही पायलट की वापसी का रास्ता
खबर यह भी आ रही है कि की घर वापसी कराने के लिए पार्टी नए फॉर्मूले की तलाश में जुटी हुई है, इसके लिए दो रास्ते निकाले गए हैं। पहला यह है कि पायलट से कहा गया है कि दिल्ली आकर पार्टी संगठन में कोई जिम्मेदारी संभालें और या फिर पायलट खेमें से किसी और नेता को उपमुख्यमंत्री बना दिया जाए।

इन 3 वजहों अंतिम पड़ाव पर पहुंचा सुलह
दोनों पक्षो में सुलह को लेकर तीन वजह सामने आई है। पहला तो यह है कि विधायक-खरीद फरोख्त मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने फाइनल रिपोर्ट सौंप दी है। वहीं दूसरी यह बताई जा रही है कि  राष्ट्रद्रोह का मामला हटने से विधायकों को राहत मिली है। तीसरी और सबसे अंतिम वजह ये है कि  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायक दल की बैठक में संकेत दिए थे कि आलाकमान का फैसला उन्हें मंजूर होगा।

प्रियंका ने तय की थी राहुल -पायलट के मुलाकात की पृष्ठभूमि
मिली जानकारी के अनुसार पायलट और राहुल के मुलाकात की पृष्टभूमि प्रियंका ने तय की थी। वह पहले भी सचिन से एकबार मुलाकात कर चुकी हैं लेकिन उस समय बात नहीं बन पाई थी। सचिन गहलोत को सीएम पद से हटाने की जिद पर अड़े हुए थे।

गहलोत ने सभी विधायकों को भावुक चिट्ठी लिखी
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को सभी दलों के विधायकों को एक भावुक चिट्ठी लिखकर कहा था कि आप सरकार गिराने की साजिश का हिस्सा नहीं बनें। अंतरात्मा क्या कहती है, उसके आधार पर फैसला करें।

Advertisement
Back to Top