लिट्टी-चोखा से छठ पूजा तक फ्री राशन, पढ़ें चुनाव से पहले पीएम मोदी के संबोधन का बिहार कनेक्शन

PM Narendra Modi Speech Bihar Election Connection - Sakshi Samachar

पीएम नरेंद्र मोदी के संबोधन का एक्सपर्ट निकाल रहे बिहार कनेक्शन

दीपावली, छठ से लेकर 'एक देश-एक राशनकार्ड' योजना का जिक्र

बिहार में नवंबर तक होगा विधानसभा चुनाव, सभी निकाल रहे कनेक्शन

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित किया। अपने 16 मिनट के संबोधन में उन्होंने तीन अहम बातों का जिक्र किया। पहली बात अनलॉक के दौरान सावधानी बरतें और सुरक्षा का विशेष ध्यान रखें। दूसरी नवंबर महीने तक यानी दीपावली और छठ तक गरीबों को मुफ्त राशन दिया जाएगा। तीसरी और सबसे अहम बात 'एक देश-एक राशन कार्ड' की व्यवस्था लागू करना। पीएम के इन तीन प्रमुख बातों में दो के मायने बिहार चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है।

दरअसल, प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन की शुरुआत अनलॉक के दौरान जनता द्वारा की जाने वाली लापरवाही से की। उन्होंने साफ कहा कि दो गज की दूरी और मास्क का जरूर इस्तेमाल करें। अभी भी लॉकडाउन जैसी ही सावधानियां बरतने की जरूरत है।

छठ और दीपावली का जिक्र

इसके बाद पीएम मोदी ने कहा कि गरीबों को नवंबर महीने तक मुफ्त में राशन मिलेगा। उन्होंने अपने संबोधन में महीने के नाम के साथ-साथ दीपावली और छठ का जिक्र किया। सोशल मीडिया पर एक्सपर्ट्स के बीच यह बहस तेज हो गई है कि प्रधानमंत्री त्यौहारों का नाम लिए बिना सीधा नवंबर महीना भी कह सकते थे, लेकिन उन्होंने खासकर दीपावली और छठ का जिक्र किया। कहीं इससे उत्तर भारत खासकर बिहार की जनता को संदेश देना तो नहीं था।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि, "प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक यानी नवंबर महीने के आखिर तक करने का फैसला हुआ है। 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली यह योजना, जुलाई, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर और नवंबर तक लागू रहेगी। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के इस विस्तार में 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च होंगे। अगर इसमें पिछले तीन महीने का खर्च भी जोड़ दें तो ये करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए हो जाता है।"

'एक देश-एक राशन कार्ड' से प्रवासियों को राहत

पीएम मोदी ने कहा कि अब पूरे भारत के लिए एक राशन-कार्ड की व्यवस्था भी हो रही है यानि एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड। इसका सबसे बड़ा लाभ उन गरीब साथियों को मिलेगा, जो रोजगार या दूसरी आवश्यकताओं के लिए अपना गांव छोड़कर के कहीं और जाते हैं।

लॉकडाउन के दौरान यह बात साफ हो गई है कि देश के हर कोने में अपना राज्य छोड़कर बिहार के ही लोग ज्यादा हैं। कहा जाए तो पूरे देश में अन्य किसी राज्य की तुलना में बिहारी प्रवासियों की संख्या कहीं ज्यादा है। इसलिए एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड योजना के जरिए अब उन्हें देश के किसी भी कोने में आसानी से अनाज मिल सकेगा। उन्हें भूखे रहने की जरूरत नहीं है।

लॉकडाउन से पहले खाया था लिट्टी-चोखा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फरवरी महीने में दिल्ली के हुनर हाट में जाकर लिट्टी चोखा खाया था। उस वक्त वह तस्वीर खूब वायरल हुई थी और तभी से उसे बिहार चुनाव से जोड़ दिया गया था। विपक्ष का कहना था कि मोदी लिट्टी-चोखा खाकर बिहार की जनता के करीब जाना जाता हैं। ये सब आने वाले चुनाव के लिए किया जा रहा है।

शहीद जवानों में बिहार रेजिमेंट का जिक्र

पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर शहीद हुए 20 जवानों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि लद्दाख में हमारे वीरों ने जो बलिदान दिया है, ये पराक्रम बिहार रेजीमेंट का है, हर बिहारी को इसका गर्व होता है. पीएम मोदी ने कहा कि जिन  जिन सैनिकों ने अपना बलिदान दिया है उन्हें मैं श्रद्धांजलि देता हूं।  मैं शहीदों के परिवार को विश्वास दिलाता हूं कि देश आपके साथ है।

Advertisement
Back to Top