इमरती देवी पर टिप्पणी को लेकर घिरे कमलनाथ ने कुछ इस तरह दी सफाई

Kamal Nath Clarification Over Imarti Devi Item Remark In Madhya Pradesh  - Sakshi Samachar

कमलनाथ की सफाई

शिवराज सिंह का मौन व्रत

मुददों से ध्यान भटकाने में लगी भाजपा 

भोपाल : मध्य प्रदेश के उप-चुनाव के बीच कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के 'आइटम' वाले बयान को भाजपा ने महिलाओं और दलित वर्ग का अपमान करार देते हुए सोमवार को दो घंटे का मौनव्रत रखा। साथ ही कमल नाथ से बयान पर माफी मांगने की मांग की। वहीं कांग्रेस ने भाजपा पर असल मुददों से भटकाने की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

अब मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने किसी का अपमान नहीं किया है। उन्होंने कहा कि वह नाम भूल गए थे। कांग्रेस नेता ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान बहाना ढूंढ रहे हैं, जबकि कमलनाथ किसी का अपमान नहीं करता है।

कमलनाथ की सफाई 

कमलनाथ ने एक चुनावी सभा में कहा, ''मैंने कुछ कह दिया था, यह अपमान नहीं था, सोच से नहीं कहा था, मुझे नाम याद नहीं था, जिसका नाम याद नहीं उसे कुछ कह दूं मैं... आज जैसे हमारे मंच पर आइटम नंबर 1 थे राजनारायण सिंह, आइटम नंबर दो थे अजय सिंह जी, ये लिस्ट में आइटम नंबर 1, आइटम नंबर 2, आइटम नंबर 3 किसी का नाम है। तो ये आज शिवराज सिंह तो बहाना ढूंढ रहे हैं। बैठ गए अनशन में कि मैंने किसी का अपमान कर दिया है। कमलनाथ किसी का अपमान नहीं करता, मैं तो सच्चाई के साथ आपकी पोल खोलता हूं।''

कमलनाथ ने आगे कहा, ''आपके पास बोलने के लिए कुछ नहीं है, इसलिए कुछ ना कुछ कहते हैं, आप कहते हैं कमलनाथ कोका कोला पीता है, अरे यार मैं पीता हूं कोका कोला, अगर कोका कोला पीना बंद कर दूंगा तो क्या किसानों की आत्महत्या रुक जाएगी या नौजवानों को रोजगार मिल जाएगा? ये भारतीय जनता पार्टी का हाल है।''

शिवराज सिंह चौहान का मौन व्रत

भाजपा के नेताओं ने चौतरफा हमला बोला और सोमवार को मौन व्रत रखा। भाजपा ने राज्य में एक साथ कई स्थानों पर मौत व्रत रखा। राजधानी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुरानी विधानसभा के करीब स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने दो घंटे का मौनव्रत रखा। इस मौके पर चौहान के साथ सरकार के मंत्री नरोत्तम मिश्रा, भूपेन्द्र सिंह, विश्वास सारंग, कमल पटेल के अलावा पार्टी के पदाधिकारी भी मौजूद रहे। 

इसी तरह इंदौर में राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में भाजपा कार्यकतार्ओं ने रीगल चैराहे पर महात्मा गांधी की प्रतिमा के समझ मौन व्रत रखा। क्षेत्रीय सांसद शंकर लालवानी, मंत्री तुलसी सिलावट सहित अनेक नेता मौजूद रहे।

इसके अलावा ग्वालियर में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा की अगुवाई में दो घंटे का मौन व्रत फूलबाग क्षेत्र में रखा गया। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पूर्व सांसद प्रभात झा, पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया सहित अनेक नेता मौजूद रहे।

इसे भी पढ़ें : 

महिला प्रत्याशी को कमलनाथ ने कहा 'आइटम', कांग्रेस पर भाजपा ने बोला हमला

असल मुददों से ध्यान भटकाने में लगी भाजपा 

भाजपा ने कमल नाथ के बयान को नारी का अपमान और गरीब व अनुसूचित जाति का के खिलाफ बताया तो कांग्रेस ने भाजपा की इस राजनीति पर ही सवाल उठाए हैं। कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी का कहना है कि राज्य में बालिका और महिला अपराध बढ़ रहे हैं, कोरोना का असर बढ़ते क्रम में है, चुनाव में 15 साल का शासन बनाम 15 माह सामने है। जनता के सामने भाजपा का चाल, चरित्र और चेहरा उजागर हो चुका है, भाजपा और शिवराज को अब सिर्फ कमल नाथ ही नजर आ रहे हैं। वे क्या खाते हैं, क्या पीते हैं, क्या पहनते हैं और क्या बोलते हैं। वास्तव में आम जनता के असल मुददों से ध्यान भटकाने में भाजपा लगी हुई है मगर उसे इसका कोई लाभ नहीं होने वाला। ऐसा इसलिए क्योंकि जनता भाजपा को जान गई है।

Advertisement
Back to Top