भाजपा को पक्का है यकीन : राजस्थान के भी कुछ कांग्रेसी विधायक बदल सकते हैं पाला

How BJP Leaders targeting Congress MLAs by Advance Cash Offers - Sakshi Samachar

 निर्दलीय  के साथ आए बसपा विधायक

बागी विधायक अपने क्षेत्र में नहीं घुस पा रहे

राजस्थान में राज्यसभा चुनाव

जयपुर : मध्य प्रदेश में सरकार गिराने और गुजरात में कई कांग्रेसी विधायक अपने पाले में करने के बाद भाजपा की नजर राजस्थान पर भी है। यहां राज्यसभा चुनाव से पहले  सियासी हलचल तेज हो चुकी है। कांग्रेस पार्टी ने अपने विधायकों को टूटने से बचने के लिए अपने और निर्दलीय विधायकों को एक रिसॉर्ट में भेज दिया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार सुबह पार्टी के सभी विधायकों के साथ अपने आवास पर एक बैठक की, वहीं शाम को कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने पुलिस महानिदेशक, एसीबी से एक आधिकारिक शिकायत की और उन भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की, जो धनबल के जरिए निर्दलीय विधायकों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं।

गहलोत का भाजपा पर निशान

रात में मीडिया से सीएम अशोक गहलोत ने बात करते हुए कहा कि खरीद फरोख्त के लिए जयपुर में करोड़ों-अरबों रुपए ट्रांसफर हो रहे हैं। ये पैसे कौन भेज रहा है। विधायकों को एडवांस देने की बातें हो रही हैं। इसीलिए महेश जोशी ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है। ये लोग लोकतंत्र का मुखौटा पहनकर राजनीति कर रहे हैं। गहलोत ने कहा कि इनका लोकतंत्र में यकीन नहीं है। ये फासिस्ट लोग हैं। पहले भी जनप्रतिनिधित्व कानून में संशोधन हुए हैं, लेकिन कोई न कोई रास्ता निकाल ही लेते हैं। 

मध्य प्रदेश में बागी विधायक अपने क्षेत्र में नहीं घुस पा रहे

गहलोत ने आगे कहा, 'कैश बड़े रूप में जयपुर में पहुंच चुका है। इस तरह की सूचना थी कि ये मध्य प्रदेश वाला खेल यहां खेलेंगे। मध्य प्रदेश में जो कांग्रेस विधायक भाजपा में गए वे क्षेत्र में नहीं घुस पा रहे हैं। लोग कहते हैं तुम तो 25 करोड़ में बिके हुए लोग हो। किस मुंह से वापस आए हो। भाजपा वाले अब उन्हें टिकट नहीं दे रहे, क्योंकि भाजपा कैडर विरोध कर रहा है। वहां इसीलिए कैबिनेट नहीं बन पा रही है।'  उन्होंने कहा कि वही खेल यहां खेला जाने वाला था, लेकिन हमारे विधायक समझदार हैं। उन्हें खूब लालच लोभ देने की कोशिश की गई, लेकिन वे एकजुट हैं।

 निर्दलीय के साथ आए बसपा विधायक

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि मुझे गर्व इस बात का है कि छह बसपा विधायक साथ 13 निर्दलीय विधायक भी आए हैं। राजस्थान पहला राज्य है जहां एक रुपए का सौदा नहीं हुआ। कोई पद का लालच नहीं दिया गया। यह सब राजस्थान की धरती पर होता है। मुझे इस बात का गर्व है कि उस धरती का मुख्यमंत्री हूं जहां के लाल बिना सौदेबाजी के सरकार के स्थायीत्व के लिए साथ देते हैं। 

आप को बता दें कि राजस्थान में 19 जून को राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मतदान होगा, जहां कांग्रेस ने दो उम्मीदवार खड़े किए हैं -के.सी. वेणुगोपाल और नीरज डांगी। जबकि भाजपा ने भी दो उम्मीदवार -राजेंद्र गहलोत और ओमकार सिंह लखावत को मैदान में उतार कर चुनाव को रोचक बना दिया है।

इसे भी पढ़ें : 

गहलोत का दावा : मध्य प्रदेश व गुजरात जैसे नहीं हैं राजस्थान के हालात, नाकाम होगी BJP की साजिश​

राहुल गांधी से ज्यादा लोकप्रिय है कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, सर्वें में हुआ खुलासा​

कांग्रेस के पास अपने 107 विधायक हैं और उसे आरएलडी के एक विधायक, और निर्दलीय 13 विधायकों, बीटीपी और माकपा के विधायकों का समर्थन प्राप्त है। जबकि भाजपा के पास 72 विधायक हैं और उसे आरएलपी के तीन विधायकों का समर्थन प्राप्त है।

Advertisement
Back to Top