नहीं रहे झारखंड के पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता राजेंद्र सिंह, राहुल गांधी और हेमंत सोरेन समेत कई नेताओं ने जताया शोक

Former Jharkhand minister and senior Congress leader Rajendra Singh, Chief Minister expressed grief - Sakshi Samachar

रांची : झारखंड कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री राजेंद्र सिंह का रविवार को दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया। राजेंद्र सिंह वर्तमान में झारखंड की बेरमो सीट से विधायक थे।

सिंह के परिजनों के मुताबिक, इन्फेक्शन की शिकायत के बाद उन्हें रांची के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में स्थिति में सुधार नहीं होने के कारण उन्हें बेहतर इलाज के लिए एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली ले जाया गया। कई दिनों तक दिल्ली में इलाज के बाद रविवार को उनका निधन हो गया।

सिंह की पहचान मजदूर कांग्रेसी नेता के रूप में रही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजेंद्र सिंह संयुक्त बिहार और झारखंड सरकार में मंत्री भी रह चुके थे। उनके निधन पर झारखंड में शोक की लहर दौड़ गई। सत्ता और विपक्ष के नेताओं ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया है।

राजेंद्र सिंह के निधन पर राहुल गांधी ने जताया दुख
राजेंद्र सिंह के निधन के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि झारखंड के वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री राजेंद्र सिंह के निधन की खबर सुनकर दुःख हुआ। दुःख की इस घड़ी में मेरी शोक संवेदनाएं उनके परिवार और प्रियजनों के साथ है।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजेंद्र सिंह के निधन पर गहरा शोक और दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर लिखा, "सिंह के निधन की खबर से मन आहत है। आज झारखंड ने एक कर्मठ नेता और सच्चा सेवक खो दिया। परमात्मा उनकी आत्मा को शांति प्रदान कर उनके परिवारजनों को इस दुख की घड़ी को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।"

झारखंड भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने सिंह के निधन पर गहरा शोक प्रकट करते हुए कहा कि राजेंद्र सिंह का जाना, प्रदेश के लिए एक अपूरणीय क्षति है।

भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने भी सिंह के निधन पर दुख और शोक प्रकट किया है। उन्होंने कहा, "बेरमो विधायक राजेंद्र सिंह जी के निधन की खबर से मर्माहत हूं। उनकी आत्मा को शांति और इस विकट परिस्थिति में उनके स्वजनों और प्रियजनों को दुख सहने की शक्ति मिले, हमारी ईश्वर से यही प्रार्थना है। विनम्र श्रद्धांजलि।" कांग्रेस के नेता धीरज साहु, आलमगीर आलम ने भी सिंह के निधन पर शोक प्रकट किया है।

राजेंद्र सिंह के निधन पर बिहार में शोक

झारखंड के दिग्गज कांग्रेसी नेता और बेरमो के विधायक राजेंद्र सिंह के निधन पर बिहार के कांग्रेस के नेताओं ने शोक प्रकट किया है। बिहार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने सिंह के निधन पर शोक प्रकट करते हुए कहा कि सिंह जमीन से जुडे हुए नेता थे। कांग्रेस के लिए सिंह का जाना एक बहुत बड़ी क्षति है।

बिहार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विधान पार्षद प्रेमचंद्र त्रिपाठी ने कहा, "झारखंड कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और बिहार तथा झारखंड सरकार के पूर्व मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह के निधन की खबर से स्तब्ध हूं। प्रख्यात मजदूर नेता, 6 बार विधायक और इंटक के महासचिव के तौर पर उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।"

इधर, युवक कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार ने भी सिंह के निधन पर दुख प्रकट किया है। कुमार ने कहा कि सिंह राजनीति की खुली किताब थे। उनकी पहचान कोयलांचल में ही नहीं पूरे झारखंड और बिहार में एक सशक्त मजदूर नेता के रूप में था। उनका जाना सभी कांग्रेसियों के लिए ही नहीं अपितु झारखंड और बिहार की राजनीति के लिए एक बड़ी क्षति है।
सिंह के निधन पर कांग्रेसी नेता विजय शंकर मिश्रा, आजिम बारी, ब्रजेश पांडेय, सुजीत कुमार सिन्हा और मंजूबाला पाठक ने भी शोक व्यक्त किया है।

यह भी पढें : ये लीजिए, अब भाजपा विधायक ने ही कोरोना को महामारी मानने से किया इनकार, कहा- डरने की नहीं जरूरत​

राजेंद्र सिंह की जीवनी पर एक नजर

नाम - राजेंद्र प्रसाद सिंह

जन्म - गया (बिहार) गांव- बैरवां

पिता - स्व. भुनेश्वर प्रसाद सिंह

मां - स्व. भगवती देवी

शिक्षा और करियर

नवादा (बिहार) से मैट्रिक पास

गया से की प्री यूनिवर्सिटी की पढ़ाई

इंटक के राष्ट्रीय महामंत्री

कांग्रेस विधायक दल के नेता भी रहें

इंडियन माइन वर्कर्स फेडरेशन के अध्यक्ष

राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ के केंद्रीय अध्यक्ष

कोल इंडिया सुरक्षा परिषद और जेबीसीसीआइ के सदस्य

अर्जुन मुंडा सरकार के दौरान नेता प्रतिपक्ष

वर्ष 2005 में उत्कृष्ट विधायक का सम्मान

तीन बार बने मंत्री

वर्ष 1989 में एकीकृत्‍त बिहार की सत्येन्द्र नारायण सिंह सरकार में लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री

वर्ष 2000 में लालू-राबड़ी सरकार में ऊर्जामंत्री का कार्यभार संभाला

1985 से बेरमो विधनासभा का कर रहे प्रतिनिधित्व

6 बार बने विधायक

2005 में संपन्न विधानसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी योगेश्वर महतो बाटुल से हारे चुनाव

2009 में फिर चुनाव जीतकर इस सीट पर कब्जा जमाया

भरा-पूरा परिवार - 

पत्नी - रानी सिंह

दो पुत्र - कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह और कुमार गौरव

आठ पुत्रियां

यह भी पढें : ग्वालियर में लगे ज्योतिरादित्य सिंधिया के लापता होने के पोस्टर, रखा 5100 रूपये का ईनाम

Advertisement
Back to Top